पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 29 दिसंबर 2012

ख़ामोशी की गूँज ऐसी होनी चाहिए

क्या कहूं 
सत्ता बीमार है या मानसिकता 
इंसानियत मर गयी या शर्मसार है 
मौत तो आनी  है इक दिन 
मगर मौत से पहले हुयी मौत से 
कौन कौन शर्मसार है ?


क्योंकि 
न इंसानियत बची न इन्सान 
लगता है आज तो बस बेबसी है शर्मसार………

चेहरा जो ढाँप लिया तुमने
तो क्या जुर्म छुप गया उसमें
क्या करेगा ओ नादान उस दिन
जब तेरा ज़मीर हिसाब करेगा तुझसे

अब पीढियाँ ना हों शर्मसार
यारा करो कोई ऐसा व्यवहार

अब अंगार हाथ में रख
जुबाँ पर इक कटार रख 
देख तस्वीर बदल जायेगी
बस हौसलों की दीवार बुलंद रख 


ख़ामोशी की गूँज ऐसी होनी चाहिए 
सोच के परदे फाड़ने वाली होनी चाहिए 
व्यर्थ न जाये बलिदान उसका 
अब ऐसी क्रांति होनी चाहिए 
यही होगी सच्ची श्रद्धांजलि




जब तक मानसिकता नहीं बदलेगी तब तक सुधार संभव नहीं क्योंकि देखो चाहे मृत्युदंड का प्रावधान है हत्या के विरुद्ध तो क्या हत्यायें होनी बंद हो गयीं नहीं ना तो बेशक कानून सख्त होना चाहिये इस संदर्भ में मगर उसके साथ मानसिकता का बदलना बहुत जरूरी है जब तक हमाiरी सोच नही बदलेगी जब तक हम अपने बच्चों से शुरुआत नहीं करेंगे उन्हें अच्छे संस्कार नहीं देंगे औरत और आदमी मे फ़र्क नहीं होता दोनो के समान अधिकार और कर्तव्य हैं और बराबर का सम्मान जब तक ऐसी सोच को पोषित नहीं करेंगे तब तक बदलाव संभव नहीं ।

मंगलवार, 25 दिसंबर 2012

अब तो तस्वीर बदलनी चाहिये

 इतनी लाठियाँ एक साथ ……नृशंसता की पराकाष्ठा………दोष सिर्फ़ इतना न्याय के लिये क्यों गुहार लगायी ?


बहुत हो चुका अत्याचार
बहुत हो चुका व्यभिचार
अब बन दुर्गा कर संहार
क्योंकि
बन चुकी बहुत तू सीता
कर चुकी धर्म के नाम पर खुद को होम
सहनशीला के तमगे से
अब खुद को मुक्त कर चल उस ओर
जहाँ ये नपुंसक समाज ना हो
जहाँ तू सिर्फ़ देवी ना हो
जहाँ अबला की परिभाषा ना हो
तेरी कुछ कर गुजरने की
एक अटल अभिलाषा हो
जहाँ तू सिर्फ़ नारी ना हो
समाज का सशक्त हिस्सा हो
जहाँ तू सिर्फ़ भोग्या ना हो
बराबरी का हक रखती हो
खुद को ना कठपुतली बनने देती हो
अब कर ऐसा नव निर्माण
बना एक ऐसा जनाधार
जो तेरी लहुलुहान आत्मा पर
फ़हराये अस्तित्व बोध का परचम
तू भी इंसान है ………स्वीकारा जाये
तेरा अस्तित्व ना नकारा जाये
तेरी रजामंदी शामिल हो
हर फ़ैसले पर तेरी मोहर लगी हो
कर खुद को इस काबिल
फिर देख कैसे ना रुत बदलेगी
खिज़ाँ की हर बदली तब हटेगी
और हर दिल से यही आवाज़ निकलेगी
बहुत हो चुका अत्याचार
अब तो ये पहचान मिलनी चाहिये
जिसमें हौसलों भरी उडान हो
तेरे कुछ कर गुजरने के संस्कार ही तेरी पहचान हों
तेरी योग्यता ही उस संस्कृति की जान हो
तेरी कर्मठता ही उस सभ्यता का मान हो 
ऐसी फिर एक नयी लहर मिलनी चाहिये
अब तो तस्वीर बदलनी चाहिये
अब तो तस्वीर बदलनी चाहिये …………

शनिवार, 22 दिसंबर 2012

ओ देश के कर्णधारों ……अब तो जागो

कुम्भकर्णी नींद में सोने वालों अब तो जागो
ओ देश के कर्णधारों ……अब तो जागो
क्या देश की आधी आबादी से तुम्हें सरोकार नहीं
क्या तुम्हारे घर में भी उनकी जगह नहीं
क्या तुम्हारा ज़मीर इतना सो गया है
जो तुम्हें दिखता ये जुल्म नहीं
क्या जरूरी है घटना का घटित होना
तुम्हारे घर में ही
क्या तभी जागेगी तुम्हारी अन्तरात्मा भी
क्या तभी संसद के गलियारों में
ये गूँज उठेगी
क्या उससे पहले ना किसी
बहन, बेटी या माँ की ना
कोई पुकार सुनेगी
अरे छोडो अब तो सारे बहानों को
अरे छोडो अब तो कानून बनाने के मुद्दों को
अरे छोडो अब तो मानवाधिकार आदि के ढकोसलों को
क्या जिस की इज़्ज़त तार तार हुई
जो मौत से दो चार हुयी
क्या वो मानवाधिकार के दायरे मे नही आती है
तो छोडो हर उस बहाने को
आज दिखा दो सारे देश को
हर अपराधी को
और आधी आबादी को
तुम में अभी कुछ संवेदना बाकी है
और करो उसे संगसार सरेआम
करो उन पर पत्थरों से वार सरेआम
हर आने जाने वाला एक पत्थर उठा सके
और अपनी बहन बेटी के नाम पर
उन दरिंदों को लहुलुहान कर सके
दो इस बार जनता को ये अधिकार
बस एक बार ये कदम तुम उठा लो
बस एक बार तुम अपने खोल से बाहर तो आ सको
फिर देखो दुनिया नतमस्तक हो जायेगी
तुम्हारे सिर्फ़ एक कदम से
आधी आबादी को ससम्मान जीने की
मोहलत मिल जायेगी …………
गर है सच्ची सहानुभूति तभी ज़ुबान खोलना
वरना झूठे दिखावे के लिये ना मूँह खोलना
क्योंकि
अब जनता सब जानती है ………बस इतना याद रखना
गर इस बार तुम चूक गये
बस इतना याद रखना
कहीं ऐसा ना हो अगला निशाना घर तुम्हारा ही हो ……………

बुधवार, 19 दिसंबर 2012

क्योंकि........ हूँ बलात्कारियों के साथ तब तक

हम थोथे चने हैं
सिर्फ शोर मचाना जानते हैं
एक घटना का घटित होना
और हमारी कलमों का उठना
दो शब्द कहकर इतिश्री कर लेना
भला इससे ज्यादा कुछ करते हैं कभी
संवेदनहीन  हैं हम
मौके का फायदा उठाते हम
सिर्फ बहती गंगा में हाथ धोना जानते हैं
नहीं निकलते हम अपने घरों से
नहीं करते कोई आह्वान
नहीं देते साथ आंदोलनों में
क्योंकि नहीं हुआ घटित कुछ ऐसा हमारे साथ
तो कैसी संवेदनाएं
और कैसा ढोंग
छोड़ना होगा अब हमें .......आइनों पर पर्दा डाल कर देखना
शुरू करना होगा खुद से ही
एक नया आन्दोलन
हकीकत से नज़र मिलाने का
खुद को उस धरातल पर रखने का
और खुद से ही लड़ने का
शायद तब हम उस अंतहीन पीड़ा
के करीब से गुजरें
और समझ सकें
कि  दो शब्द कह देने भर से
कर्त्तव्य की इतिश्री नहीं होती
क्योंकि .........आज जरूरी है
बाहरी आन्दोलनों से पहले
आतंरिक दुविधाओं के पटाक्षेप का
केवल एक हाथ तक नहीं
अपने दोनों हाथों को आगे बढाने का
जिस दिन हम बदल देंगे अपने मापदंड
उस दिन स्वयं हो जायेंगे आन्दोलन
बदल जायेगी तस्वीर
मगर तब तक
कायरों , नपुंसकों की तरह
सिर्फ कह देने भर से
नहीं हो जाती इतिश्री हमारे कर्तव्यों की
और मैं ..........अभी कायर हूँ
क्योंकि........ हूँ बलात्कारियों के साथ तब तक
जब तक  नहीं मिला पाती खुद से नज़र
नहीं कर पाती खुद से बगावत
नहीं चल पाती एक आन्दोलन का सक्रिय पाँव बनकर
इसलिए
शामिल हूँ अभी उसी बिरादरी में
अपनी जद्दोजहद के साथ ................




 इस अभियान मे शामिल होने के लिये सबको प्रेरित कीजिए
http://www.change.org/petitions/union-home-ministry-delhi-government-set-up-fast-track-courts-to-hear-rape-gangrape-cases#

कम से कम हम इतना तो कर ही सकते हैं.........

रविवार, 16 दिसंबर 2012

सब जानती हूँ ...........दिवास्वप्न है ये

इंतजार की हद पर ठहरा 
धूप का टुकड़ा 
देख कुम्हलाने लगा है
नमी का ना कोई बायस रहा है 
हवाओं में भी तेज़ाब घुला है 
ओट दी थी मैंने 
अपनी मोहब्बत के टीके की 
पर मोहब्बत ने भी अब 
करवट बदल ली 
ना सुबह का फेन बचा है
ना सांझ की कटोरी में 
कोई रेशा रुका है
कब तक आटे की गोलियां बनाती रहूँ
मछलियों को दाना डालती रहूँ 
सूखे तालाबों में मछलियों का होना
उनका दाना चुगना 
सब जानती हूँ ...........दिवास्वप्न है ये 
इंतज़ार के भरम सपनों की गोद में ही तो पलते हैं लोरियां सुनते हुए ...........

बुधवार, 12 दिसंबर 2012

उपन्यास का इससे सुखद अंत और क्या होगा ?

 दर्द शापित होता है तभी तो अदृश्य होता है फिर भी भासित होता है ...........नींद की गोलियां भी बेअसर ..........उम्र की कडाही में खौलता रेशा रेशा तड़पने को मजबूर ..........कोई ऊँगली डालने को भी राजी नहीं वहां दर्द की तासीर बड़ी मीठी हो जाती है अपनी कडवाहट से ...........आखिर दर्द भी तो पनाह चाहता है न कसकने के आगोश में .........चिंदी चिंदी कर बिखरना आसान होता है मगर ठोस बनना मुश्किल फिर सीने के लिए कहाँ मिलता है कोई दरजी जो दर्द की एक- एक पोर को सीं दे और जोड़ दे उसमे कुछ रेशे अपनी पैरवी के ............नहीं मिलता कोई रंगरेजा जो उँडेल दे रंगों का इन्द्रधनुष और मिटा दे दर्द की ताबीर ...........मिटटी को कब मिला आसमान , कुटना, पिसना और मिटना ही तो नियति है फिर क्यों  न दर्द को ही सखी बनाया जाये और कुछ पल उसके आगोश में सिमटा जाए ............यूँ भी घूँट घूँट कर पीने से राहत मिलती है रेशमी दुल्हनों को ..............कोई जरूरी तो नहीं न दूल्हे  ने हर बार सेहरा ही लगाया हो ............बेनकाब आतिशों पर सायों की परछाईयाँ कब हमसफ़र बन कर साथ चलती हैं ...........यूँ भी दर्द की दुल्हन तो हमेशा ही सिन्दूर को तरसती है ..............कुछ दुल्हन बिन श्रृंगार के ही डोलियों में विदा होती हैं ............आखिर अंतिम विदाई के भी तो कुछ दस्तूर होते हैं निभाने के लिए ..........रेशम के कफ़न तो सबको नसीब होते हैं फिर विदाई की अंतिम बेला में कुछ तो दस्तूर बदलने चाहिए ............दर्द की किताब हो और आखिरी पन्ना फटा हुआ हो ...............उपन्यास का इससे सुखद अंत और क्या होगा ?

रविवार, 9 दिसंबर 2012

यादों की महकती शाम …………फ़र्गुदिया के नाम

अनुगूँज की गूँज बहुत देर तक सुनाई देती रहेगी ………सबने मिलना जो था 

फ़र्गुदिया के कार्यक्रम अनुगूँज मे अनामिका जी, वन्दना ग्रोवर, मुकेश मानस, अंजू शर्मा, असद ज़ैदी, अरुण कुमार शुक्ल, डाक्टर सुनीता कविता जी का कविता पाठ था जिसमें हम सबने शिरकत की और एक खुशनुमा शाम का आनन्द उठाया

 सरिता दास के साथ 


 संजू तनेजा अपने स्टाइल में :)


राजीव तनेजा जी 

कार्यक्रम की संचालिका और आयोजन कर्ता शोभा मिश्रा जी के साथ
संचालिका के पद को गरिमा देती शोभा जी का संचालन बेहद खूबसूरत रहा 
 वन्दना ग्रोवर जी का कविता पाठ शाम को महका गया 
क्षणिकाओं से शुरु होकर हास्य से भी मिलवा गया
पंजाबी कुडी ने रंग खू्ब जमा दिया 
जो पंजाबी कविता का तडका लगा दिया

 सीमांत सोहे्ल जी के साथ यादो भरी शाम


 दर्शकों बीच राजीव तनेजा

 वन्दना ग्रोवर का फूलों से स्वागत करते


असद ज़ैदी जी की कविताओं ने सोच को भी आईना दिखा दिया 

 पलों को सहेजते पल चेहरे से बयाँ हो रहे हैं 


 अनामिका …बस नाम ही काफ़ी है
कवितायें तो जैसे दू्सरे जहान से आयी हैं 
गहनता भी शरमा जाती है जब मौन मुखर होता है 

 ये हँसते मुस्कुराते लम्हे………हैं ना सहेजने योग्य

मज़ा तो यहाँ आया जब जो रोज़ बतियाते थे 
ना इक दूजे को पहचान पाये 
निशा कुलश्रेष्ठ , मृणाल के साथ 

 मुकेश मानस जी का स्वागत करते

 बलजीत जी के साथ राजीव तनेजा








 अंजू शर्मा कविता पाठ करते हुये 
जूते के जो गुणगान किये
सभी के चेहरे खिल गये




 आनन्द कुमार शुक्ल कविता पाठ करते हुये

 डाक्टर सुनीता कविता का स्वागत

  डाक्टर सुनीता कविता कविता पाठ करते हुये
स्त्री के अनेकों रूप का गुणगान कुछ ऐसे किया
हर स्त्री का चेहरा जैसे बयाँ हो गया 


 उपस्थित कविगण 

 एक शाम को कैमरे मे कैद करते राजीव तनेजा 







 सईद अयूब कार्यक्रम के आयोजक
 सरिता दास के साथ संजू तनेजा


 रविन्द्र के दास अपनी पत्नी के साथ 



चुलबुली  इंदु अनामिका जी का स्वागत करती


 इंदु, वन्दना ग्रोवर, सरिता दास, संजू तनेजा



 ओये होये किधर खो गये :)

 निशा के साथ 








 
 आखिर मे सईद अयूब जी ने समापन भाषण दे सबका आभार व्यक्त किया 


तो दोस्तों ये था कल की शाम का यादगार नज़ारा जहाँ काफ़ी नये चेहरों से परिचय हुआ तो साथ ही जिनसे रोज बतियाते हैं उनसे मिलने का भी लुत्फ़ उठाया ।
अंत मे राजीव तनेजा जी का आभार इन सुन्दर सुन्दर फ़ोटोग्राफ़्स के लिये अगर उन्होने ना लिये होते तो आज हम यहाँ आनन्द ना ले रहे होते :)

गुरुवार, 6 दिसंबर 2012

गर बच सके तो "कुछ" बचा लो

मिट रही है इंसानियत
बढ़ रही है हैवानियत
इंसानियत के नीलाम
 होने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो

बिक चुका  है जो जमीर

लालच हुआ अधीर
जमीर को बिकने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो

ये रगों मे लहू बन

रेंगते बेशर्मी के कीड़े
दरिंदगी की लाज शर्म भी
न जिन्हें रास आती
उन हैवानों की हैवानियत के
चंगुल में फंसने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो

चाहे मलाला हो

चाहे सोनाली हो
कट्टरपंथियों की नाक ना नीची हो
इस चरमपंथियों की गिरह से
बेबस मासूमों की
बलि चढ़ने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो

जो आधुनिकता की

भेंट चढ़ गयी हैं
संस्कारों की दौलत
उसे वस्त्रहीन होने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो

संस्कृति, संस्कार और सभ्यता 

एक सिक्के के दो पहलू
आज टके भाव भी न बिकते हैं
फिर भी आने वाली पीढ़ी के लिए
ईमान के इस खजाने को
नेस्तनाबूद होने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो


बस अपने हाथों में

इक ईमान की
इक सच्चाई की
इक इंसानियत की
इक इबादत की
कोई लकीर बना सको तो बना लो
खाली  हाथ आए
खाली ही जाना है
इस उक्ति को सार्थक
करने से पहले
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो
यारा ............
गर बच सके तो
"कुछ" बचा लो ..............

सोमवार, 3 दिसंबर 2012

3 दिसम्बर ……ना भूली जा सकने वाली तारीख

नही भूल सकती आज का दिन
मेरी अबूझी पीडा में लगी एक फ़ांस
जो उम्र भर अब सिर्फ़ चुभती रहेगी
मगर पीडा को ना आकार दे पायेगी


जिसकी छाँव में जीवन गुजरा

पल पल कुसुम सा महका
और फिर एक दिन छीन लिया तुमने
आँखों से वो हर इक सपना
जो लहराता था एक बेटी के मनआँगन में
नेह का दरिया बनकर
जो था उसके जीवन का सम्बल
जहाँ जाकर भूल जाती थी वो
अपने जीवन की हर एक उलझन
जिसकी पनाह मे पाती थी
तुम्हारी गोद सा परम दुलार
कैसे कर देते हो तुम
जीवन का जीवन से बिछोह
जो तुम्हारा ही प्रतिरूप होता है
हर बेटी के जीवन की स्नेहमयी गुनगुनी धूप होता है
जिसकी छाँव तले वो निर्भय घूमा करती है
क्यों इतने निष्ठुर हो जाते हो 

जो उम्र भर का दर्द दे जाते हो
हे जीवनदाता ……क्यों आता है वो वक्त ज़िन्दगी में
जब छीन लेते हो तुम निज स्वरूप जीवनदाता को ……बेटियों से

जब तक स्वंय उस पीडा से ना गुजरो पीडा का आकलन नहीं कर सकते ।

शनिवार, 1 दिसंबर 2012

मुझे ऐसा प्यार करना कभी आया ही नहीं

सुनो
जानते हो
मुझे प्रेम करना कभी आया ही नहीं
बस चाहतों ने सिर्फ़ तुम्हें चाहा
क्योंकि
तुम धुरी थे और मैं
तुम्हारे चारों तरफ़ घूमता वृतचित्र
कभी जो तुम्हें दिखा ही नहीं
तुमने महसूसा ही नहीं
बस वो ही त्याग किया मैने
क्या प्यार वहीं स्वीकृत है
जहाँ जताकर कुछ छोडा जाये
जहाँ बताकर अपने त्याग को
छोटा किया जाये
जहाँ जेठ की तपती धरती
अपने सेंक से तुम्हें भी तपा दे
जहाँ शून्य से भी सौ डिग्री नीचा तापमान हो
और तुम्हें अपनी कडकडाती हड्डियों
जकडी हुयी साँसों
पथरायी आँखों
का अहसास कराया जाये
तो क्या तभी प्यार होता है
सच जानम …………
मुझे ऐसा प्यार करना कभी आया ही नहीं

प्यार की खन्दकों में तेज़ाब भी खौलते हैं

फिर चाहे ऊपरी सतहें खामोश दिखती हों
इसलिये
सतही प्यार के फ़ूल खिलाने के लिये मैने वो आशियाना बनाया ही नहीं
लेकिन ये सच है ………जैसा तुमने चाहा
वैसा प्यार करना मुझे आया ही नहीं …………