पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 27 जून 2014

मेरा हिस्सा

क्योंकि 
उम्र भर सिर्फ 
बँटती ही रही 
कटती ही रही 
छँटती ही रही 
पर कभी ना पाया पूरा हिस्सा 


हर बार जरूरी नहीं होता भावनाओं में कविता का होना 
क्योंकि 
आखिर हूँ तो स्त्री ही ना 
इसलिए 
आखिर कब तक ना चाहूँ अपना हिस्सा 

मुकम्मलता का अहसास सभी के लिए जरूरी होता है 
फिर ज़िन्दगी एक बार ही मिला करती है 
और जीना चाहती हूँ मैं भी उसे सम्पूर्णता के साथ 
इसलिए आज कहती हूँ 
मेरे हिस्से में से 
ले लो सब अपना हिस्सा 
ताकि जब समेटूँ खुद को 
तो सुकूँ रहे
बचा रहा कुछ मेरा हिस्सा 

शुक्रवार, 20 जून 2014

कविता में शून्यकाल

इस बार मै पुस्तक मेले से शुक्रवार साहित्य वार्षिकी 2014 लायी तो देखकर आश्चर्य हुआ कि जो हिंदी प्रदेशों की सांस्कृतिक स्थिति पर केन्द्रित है उसमें चाहे परिचर्चा हो, स्मरण , यात्रा वृतांत , आत्मकथ्य , कहानी , डायरी , उपन्यास अंश या कवितायें पूरी किताब में महज 11 महिलाओं के लेखन को जगह दी गयी जिनमे से 7 महिलाओं की कविता थीं और बाकि की 4 अन्य स्थानों पर तो सोचिये कैसे नहीं ह्रास होगा कविता और कवि कर्म का जहाँ 70 लोगों की कवितायें छपी हों वहाँ सिर्फ़ 7 महिलायें शामिल की गयी हों ……आज जरूरत है हर तरफ़ ध्यान देने की तभी समग्रता से कविता को उसका उचित दर्जा मिलेगा हो सकता है कुछ महिलायें दे रही हों कुछ नयापन कविता को अपने लेखन के माध्यम से जो सबकी दृष्टि से ओझल हो अगर इस तरफ़ भी ध्यान दें बडे बडे लोग तो कविता जरूर अपना स्थान बना लेगी …………आज चारों तरफ़ चिंता की पोटली लिए घूमते तो सभी हैं कि कविता को उसका उचित स्थान नहीं मिल रहा या कहाँ खो रही है मगर कोई ध्यान नहीं देना चाहता इस बात पर सब बस दिग्गजों को छापने पर ही जोर दिया करते हैं और नयों को आजमाने का जोखिम कम उठाते हैं  । कविता बेशक अपना मुकाम पा ही लेती है देर सवेर मगर जो हालात बनाए जाते हैं या पैदा किए जाते हैं उन्ही की वजह से कविता में शून्यकाल उपजता है और फिर हम ढूँढने लगते हैं कारण बस उन्हें मिटाने की वजह नहीं ढूँढा करते। और यही हाल पूरे साहित्य का है फिर वो कहानी हो उपन्यास या अन्य विधायें ।

1) क्या साहित्य में महिलाओं पर सिर्फ़ लिखा जा सकता है मगर उन्हें अग्रिम पंक्ति में लाने का उपक्रम नहीं किया जा सकता ? 

2) क्या वो ही दोयम दर्जा देने की मानसिकता यहाँ भी व्याप्त नहीं है ? 

जब तक इन प्रश्नों के हल साहित्य जगत नहीं ढूँढता एक पक्षीय वार्ताओं का कोई महत्त्व नहीं होता , व्यर्थ चिन्ताओं का लबादा ओढ खुद को साहित्य का हितैषी सिद्ध करने भर से नहीं बदला करती हैं तस्वीरें ।

सोमवार, 16 जून 2014

कवि कैसे कह गया हमारे दिल की बात

पाठकनामा पर मेरे द्वारा लिखी विमलेश त्रिपाठी के काव्य संग्रह ' एक देश और मरे हुए लोग ' की समीक्षा इस लिंक पर पढ सकते हैं

http://pathhaknama.blogspot.in/2014/06/blog-post.html
 

शनिवार, 14 जून 2014

' सरहद से ' ..........एक धीमी सरगोशी

कुछ सच्चाइयों से हम रु-ब-रु हो ही नहीं पाते क्योंकि आँखों पर अपनी ज़िन्दगी का ही चश्मा लगा होता है उससे इतर कुछ दिखता ही नहीं ……मगर कुछ सत्य कितने दुरूह होते हैं जिन्हें कोई कैसे शब्दों में बाँध देता है और चुप हो जाता है मगर उसकी चुप्पी उस क्षण बहुत खलती है जो बिना कहे भी बहुत कुछ कहती है ………ऐसे ही एक शख्स हैं मनोहर बाथम जी बी एस एफ़ में इंस्पैक्टर जनरल के पद पर कार्यरत हैं जिन्होने अपना काव्य संग्रह ' सरहद से ' मुझे बडे प्रेम से भेजा है और जिसे जितना पढ रही हूँ बस भीगे जा रही हूँ और मौन हुए जा रही हूँ एक एक कविता दिल पर प्रहार करती है बिल्कुल सहज सरल भाषा मगर कितनी मारक इसका नमूना देखिये :

जुर्म
(कामरेड हमीद के लिए )

ईद के दिन हमारी चौकी पर
पीछे के दरवाज़े से
उसने सेवईयाँ भेजीं चुपचाप
किसी को न बताने की शर्त थी

मेरी दीपावली की मिठाई भी शायद
इसी तरह से जाती
वो हो गया रुखसत दुनिया से

मेरे साथ ईद मनाने के जुर्म में

न जाने किन हालात से गुजरते हैं सीमा पर रहने वाले जहाँ कोई अपना नहीं होता और दुश्मन में भी मिल जाते हैं कभी कभी अपने से या कहो युद्ध तक ही बेगानापन होता है बाकि वक्त तो जैसे हमनिवाला बन जीते हैं ऐसी न जाने कितनी कवितायें हैं जो उस जीवन को तो जीवन्त करती ही हैं बल्कि उन दिलों में उपजी संवेदना और एकाकीपन की तस्वीर को भी उजागर करती हैं क्योंकि जो नहीं कहा गया वो कहीं ज्यादा कचोटता है , ज्यादा तकलीफ़ देता है , ऐसी कवितायें जो आपको मूक कर दें और सोचने पर मजबूर जहाँ आप न रो सकें न हँस सकें सिर्फ़ मौन हो सोचने पर विवश हो जाएं एक ज़िन्दगी ऐसी भी हुआ करती है जिसके बल पर हम हँसी खुशी घरों में रहा करते हैं ………


 वैसे ये कवितायें कहाँ ये तो वो दुरूह हकीकतें हैं जिनसे रु-ब-रु होना हर भारतीय के लिए जरूरी है क्योंकि आखिर हैं तो वो भी हमारी ही तरह इंसान , उनके दिल में भी दया , करुणा और संवेदना बसती है बस देश की खातिर देश में रहने वालों की खातिर खुद अपने सीने पर पत्थर रख कैसे मौत और ज़िन्दगी से आँख मिचौनी खेलते हुए जीने के बहाने ढूँढते हैं उन्ही लम्हात का चित्रण इस बारीकी से किया गया है कि पाठक चौंक उठता है तो कहीँ स्तब्ध रह जाता है तो कहीं निशब्द हो जाता है जहाँ एक ओर हम जरा जरा सी बात पर लड मरते हैं एक दूसरे का कत्ल तक कर देते हैं यहाँ तक कि रिश्तों को भी ताक पर रख देते हैं वहाँ एक सैनिक किन किन के साथ न केवल रहता है बल्कि उन्हें अपने परिवार का हिस्सा बना लेता है देखिए उसकी एक बानगी :


मैं और मेरे साथी 
****************
इस दो सौ गज के टुकड़े पर 
मैं और मेरे साथी 
मेरे घोड़े ऊँट 
मेरा कुत्ता कालू  
और कुछ घुसपैठिये चूहे 
सभी रहते हैं 

एक  मंदिर है इसी दो सौ गज में 
नमाज भी  पढ़ी  जाती है 
क्रिसमत पर केक भी कटता है 
वाहे गुरु की आवाज़ें 
रोज  सुन लेना 

 रहने का सलीका 
सीखना हो अगर 
बी ओ पी में  चले आना (  सीमा चौकी )

एक सैनिक के भी दिल होता है भारत माँ के बाद होती है कहीं उसकी भी माँ तो समझ सकता है वो माँ के दिल को मगर अपने कर्तव्य से कैसे विमुख हो सकता है , उसे तो देश हित में अपनी ड्यूटी पूरी करनी ही है फिर चाहे वो कोई हो कुछ ऐसे ही जज़्बातों से जब कवि ह्रदय व्याकुल होता है तो फ़ूट पडती है वेदना अक्षरक्ष : उसकी कलम में जो वो वहाँ न दिखा सकता है न कह सकता है किसी से वो व्यक्त तो होनी होती है तो हो जाती है कलम के माध्यम से कुछ इस तरह :

माँ 
***
आतंकी का मकान 
देख लें -- मैने कहा 
चप्पा चप्पा छान लो 
ऊपर नीचे छान लो 
कुछ मत छोडना 
कहीं भी हो सकता है वो 

सब  अस्त व्यस्त करने के बावजूद 
न मिला कुछ 

सफ़ेद बाल मोटा चश्मा 
पेट में कांगडी फ़िरन के अन्दर 
साठ साल में ऐसी विनम्रता '
बेटा अब बँद कर लूँ दरवाज़ा' ' 

माँ माफ़ करना ' मैने कहा 
' हमने सब सामान बिखेर दिया है ' 
'माफ़ी किस बात की बेटा ' 
' वो अपना काम कर रहा है ' 
गलत या सही मैं नहीं जानती -- 
तुम अपना काम कर रहे हो 
गलत या सही मैं नहीं जानती 

मैं तो तुम दोनो को ही 
नहीं कोस सकती 

मैं माँ हूँ 

वहीं दूसरी तरफ़ एक दूसरी माँ की वेदना और आतंकवादी हमलों के कहर का जीवन्त दृश्य उकेरना यूँ ही संभव नहीं होता जो गुजरा होता है उन परिस्थितियों से वो ही व्यक्त कर सकता है त्रासदी की भयावहता :

गूँगा 
*****
हर चौथे रोज़ ही दीखती थी 
दो - तीन बरस के बच्चे के साथ 
डॉक्टर से गिडगिडाती 
बच्चे के बोलने के इलाज के लिए
 ' गूँगा' लग्ज़ उसे अच्छा नहीं लगता 

माँ की तरह डॉक्टर भी 
उम्मीदों के साथ 
कि कभी तोतली आवाज़ से सही 
निकलेगा ' अम्मी ' 

कल की ही तो बात है 
उस जालिम के बम से 
चीखों से सारी बस्ती गूँजी
कहते हैं पहली और आखिरी बार 
गूँग़ा भी ' अम्मी' पुकारते 
चीखा 

आखिर सैनिक होता तो एक इंसान ही है तो मरने के बाद कहाँ रह जाती है कोई दुश्मनी बचता है तो एक इंसान वहीं दूसरी तरफ़ इस तरह मरने और मारने से आतंक कम नहीं होता बल्कि और बढ जाता है उस वेदना को बिना शब्दों की बर्बादी के कवि ने इस तरह उकेरा है कि आँख के आगे चलचित्र सा चलने लगता है : 

क्षणिक खुशी 
**************
मेरे हाथ से जब 
पहला आतंकी मरा 
वो खुशी का पल 
क्षणिक था 

उसके मरने का बिल्कुल नहीं 
मारने पे ज्यादा दुख 
पता नहीं क्यों? 

इस मर जाने से 
मरा नहीं आतंक 
नहीं मिला चैन 
गरीबों और बेसहारों को 

कुछ और बढ गए 
इस फ़ेहरिस्त में नाम 


ऐसी जाने कितनी कवितायें हैं जो कम शब्दों में मारक वार करती हैं , हर कविता एक सच्चाई को बयाँ करती है फिर वो कच्छ में रन का रेगिस्तान हो या वहाँ के जीवन और उसकी कठिनाइयाँ , या फिर फ़्लेमिंगो के प्रवास से जुडे कवि के सैन्य जीवन के अनुभव या फिर कश्मीर की वादियों में पडे लहू के छीँटे हर घटना को सलीके से कवि ने न केवल उकेरा है बल्कि कहीं कोई शोर शराबा नहीं एक वीभत्स सन्नाटा जो शनै: शनै: दस्तक देता हो और अन्तस मे चिकोटी भरता हो इस तरह आत्मा में उतरती कवितायें किसी भी ह्रदय में उथल पुथल मचाने में कामयाब होती हैं । सरल सहज और सुलझी भाषा में कम शब्दों मे गहरी बात कह देना कवि के लेखन की विशेषता है । यूँ तो दो संग्रह आ चुके हैं कवि के और 5 हजार प्रतियाँ बिक चुकी हैं मगर देखिए विशेषता वो ही सैन्य जीवन का अनुशासन काबिज़ है कहीं कोई शोर नहीं , कहीं आत्म प्रचार नहीं शायद सब जानते भी नहीं कि कोई सरहद पर रहने वाले ने ऐसा कुछ लिखा है जबकि आज यदि किसी की 500 प्रतियाँ भी बिक जाएं तो खुद को जाने क्या समझने लगता है , प्रचार के लिए व्याकुल हो उठता है वहीं मनोहर बाथम जी में वो ही अनुशासन कायम है जो एक सैनिक के जीवन में हमेशा होता है जो कभी अपने नाम के प्रचार प्रसार के लिए काम नहीं करता बल्कि देश हित में अपने प्राणों का बलिदान दे देता है । जल्द ही हमारे हाथों में उनका तीसरा काव्य संकलन होगा जिसकी मुझे बेसब्री से प्रतीक्षा रहेगी ………शुभकामनाओं के साथ उस सैनिक  को नमन करती हूँ जिसने हमें अपने कवि रूप से अवगत तो कराया ही बल्कि उन परिस्थितियों से भी रु-ब-रु करवाया । कोई यदि पढना चाहता हो तो संकलन शिल्पायन प्रकाशन से मंगवा सकता है । 

शिल्पायन फोन : 011-22821174

गुरुवार, 12 जून 2014

यूँ ही कभी कभी

हैलो 
बिजी हो क्या ?

( कोई जवाब नहीं )

आज बहुत जरूरत थी किसी  की 
और आज ही वक्त का सितम देखो 
खुद से भागने को जी चाहता है 

( कोई जवाब नहीं )

उफ़ ! मेरी बेअक्ली तो देखो 
तुम्हारे जवाब नहीं आ रहे 
और मैं लिखे जा रही हूँ 

( कोई जवाब नहीं )

आह ! ये दीवानगी नहीं 
ये है बेबसी , बेजारी 
इतने बड़े जहान में 
अकेलेपन को झेलने की त्रासदी 
जो शब्दों में व्यक्त हो नहीं पा रही 
कोई अविभक्त सी रेखा 
मानो विभक्ति के कगार पर खड़ी हो 
मगर विभक्त भी ना हो पा रही हो 
जुनून की हदें नहीं होतीं 
शायद इसीलिए 
बेसबबी के पायदान पर खड़े होकर 
तुम्हें पुकारा है 
मगर 
अंजुली में कब वक्त सिमटा है 
जो आज समेट पाती 
अच्छा , चलती हूँ 
कहाँ ? नहीं पता 
बिना मकसद की ज़िन्दगी के भी क्या कभी कोई मायने होते हैं 
डोर से टूटी पतंगों को भी क्या कभी आशियाँ मिलते हैं 
अलविदा ! 

अलविदा ! कितना मुश्किल होता है खुद को कहना 
और एक कहानी अधूरेपन के साथ ही ख़त्म हो गयी 

सोमवार, 9 जून 2014

दोस्त

जन्मदिन की असीम शुभकामनायें ………खुशियों से लबरेज़ हो तेरा जहान 



हाँ दोस्त
ना जाने कितनी 
किस्मे होती हैं दोस्तों की
अजी क्या सोचने लगे
दोस्तों की किस्मे
तो इसमें क्या अलग है
जब इस दुनिया में
दो शक्ल एक जैसी नहीं होतीं
दो लोगों के विचार एक जैसे नहीं होते
तो दोस्त और उनका व्यवहार कैसे
एक जैसा हो सकता है
उनमे भी तो वो ही 
दुनियावी रंग उतरा होता है
और सबसे बड़ी बात
दोस्ती एक होती है बचपन की
जिसमे बचपन से एक 
निश्छल प्रेम जुड़ा होता है
वहाँ दोस्ती की नींव
कच्ची मिटटी की बनी होती है ना
तो इतनी मजबूत होती है
कितने आँधी तूफ़ान आयें
सब झेल जाती है 
मगर दोस्त पर ना 
तोहमत लगाती है
यूँ ही थोड़े कृष्ण सुदामा की 
दोस्ती को दुनिया याद करती है 
मगर उसके बाद की 
जो भी दोस्ती होती है
स्वार्थ की जड़ों पर ही
उसकी नींव टिकी होती है
जब तक काम निकले तब तक दोस्ती
उसके बाद ना दोस्त ना दोस्ती
कैसे हो गए हैं ना
दोस्ती के रिश्ते
तो फिर दोस्त तो होंगे ही आर्टिफिशल 
ऊपर अपनेपन का मुखौटा लगाये
सबसे ज्यादा हमदर्द बनते
मगर वो ही हैं सबसे पहले
पीठ में छुरा हैं घोंपते
एक तो आज का माहौल ऐसा
उस पर आज की टैक्नोलोजी 
क्या से क्या बना दिया
दोस्त को और दोस्ती को
दोनों को सिर्फ एक खेल का 
मैदान बना दिया
अब देखो तो
फेसबुक हो या ट्विटर या ऑरकुट 
या फिर हो कोई भी चैट पर
बस हाय किया हेलो किया 
और हो गयी दोस्ती
कुछ उसकी सुनी
कुछ अपनी कही
और बन गए दोस्त
जो सिर्फ एक छलावा होते हैं
यहाँ नकाबों में छुपे ना जाने कितने
अन्जान चेहरे होते हैं
मुश्किल से ही यहाँ 
सच्चे दोस्त मिलते हैं
एक अन्जान चेहरा
एक अन्जाना नाम
एक अनजानी पहचान
पता नहीं क्यों 
फिर भी लोग यहाँ 
कुछ पलों के लिए ही सही
खुद को भुला देते हैं
ये दोस्त और दोस्ती का
नया रूप यहाँ दिखता है
जहाँ कुछ देर के लिए ही सही
झूठ भी सही दिखता है
क्योंकि 
मिल जाते हैं कभी कभी 
कुछ ऐसे चेहरे
जो सच में दोस्ती को 
एक मुकाम देते हैं
बिना देखे जाने पहचाने भी
दोस्त की उदासी में
उसे हँसाने का हुनर रखते हैं
फिर चाहे उसके लिए उससे 
झूठा लड़ना ही क्यों ना पड़े
उसे चिड़ाना ही क्यों ना पड़े
मगर दोस्ती को कई बार
नए अर्थ दे जाते हैं
शायद वो ही 
सच्चे और अपने दोस्त कहलाते हैं
जो चाहे आभासी हों या मूर्त 
मगर दोस्त की उदासी को भी 
मुस्कराहट में बदल जाते हैं 
चुपके से ही सही
दोस्ती को अर्थ दे जाते हैं 

और वो अर्थ हो तुम ……प्रिय मित्र राकेश 
तुम सा निस्वार्थ मित्र पा मैं धन्य हुयी 

ये कविता काफ़ी साल पहले लिखी थी आज तुम्हारे जन्मदिन पर तुम्हें समर्पित 
ये भी अजब इत्तफ़ाक ही है कि एक दिन के अन्तर पर ही हमारे जन्मदिन आते हैं :) :) 

मंगलवार, 3 जून 2014

खुश हो लो ओ माताओं बहनों और स्त्रियों !!!

क्योंकि अभी नहीं हुई हमारे जुल्मों की इंतेहा
इसलिए 
अभी और होना है तुम्हें तिरस्कृत 
अभी और होना है तुम्हें बलात्कृत 
क्योंकि 
क़ानून हो या सत्ता 
संग हैं हमारे 
और तुम्हारे औजार हैं सब पुराने 
बस रोना गिड़गिड़ाना जानती हो 
ज्यादा से ज्यादा क्या 
जाओगी कानून के पास गुहार लगाने 
मगर वहां भी हम जैसों को ही पाओगी 
तो करती रहो शोर 
और दबती रहेंगी तुम्हारी आवाज़ें इसी तरह 
क्योंकि जानते हैं हम 
यहाँ नहीं बदला करते क़ानून 
ज़रा ज़रा सी बातों पर
 ( लड़के हैं गलती हो जाया करती है तो क्या उसके लिए फांसी दे दें )
इस सोच के नुमाइंदे जब तक 
हमारे साथ हैं तब तक 
ढूँढने हैं हमें अभी और नए नए तरीके 
सरिये औजार पत्थर बोतल 
तो हम भर चुके 
आंतें भी बाहर निकाल चुके 
पेड़ पर भी लटका चुके 
एसिड भी पिला चुके 
मगर नहीं भरा अभी हमारी अमानवीयता का घड़ा 
अभी बाकी है और जद्दोजहद 
हमारी मानसिकता की 
क्योंकि हम वो कालसर्प हैं जो मौत से भी नहीं डरा करते 
हा हा हा के दंश से ही उपजती हैं हम में क्रूर ऋचाएं 
इसलिए 
जब तक नहीं कर लें हम ईजाद 
नयी संभावनाएं तुम्हारे शोषण की 
तब तक बची हो तुम …… खुश हो लो ओ माताओं बहनों और स्त्रियों !!!