पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 8 मई 2009

अनकहे ख्याल

कुछ ख्याल
आते आते
भटक जाते हैं
अपने ही दायरों में
सिमट जाते हैं
भावों को न
पकड़ पाते हैं
शून्य में ही कहीं
खो जाते हैं
कुछ कहते- कहते
ना जाने
क्या कह जाते हैं
ख्याल पर ख्याल
पलट जाते हैं
भावों के मंथन
की कौन कहे
यहाँ तो लब तक
आते- आते
अल्फाज़ बदल जाते हैं
एक भाव में
दूसरा भाव
उलझ जाता है
शब्दों में ना
बंध पाता है
भावों में बहते-बहते
शब्द भी खो जाते हैं
और फिर
कुछ ख्याल
अनकहे ही
रह जाते हैं

12 टिप्‍पणियां:

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

यही कुछ ख्याल फिर से नयी बात कह जाते हैं ..बहुत अच्छा लिखा है आपने ..अच्छी लगे आपके यह ख्याल

विनय ने कहा…

बहुत ही लाजवाब कविता है

---
तख़लीक़-ए-नज़रचाँद, बादल और शामगुलाबी कोंपलेंतकनीक दृष्टा

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

सच कुछ ख्याल अनकहे रह जाता है जिदंग़ी में। उन ख्यालों को अच्छे शब्द दिये। बेहतरीन।

डॉ.भूपेन्द्र कुमार सिंह ने कहा…

sookh jata hai gala kafz atak saktey hai ,
mere khayal kahin door bhatak saktey hain,
meri kavita ki in lines se bahut milti hai aapki kavita,sunder prayas,
meri hardik shubh kamnayen
Dr.Bhoopendra Singh

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

प्रियम्वदा वन्दना जी।
संसार एक प्रश्नजाल है।
अनकहे सवाल सबको परेशान करते हैं।
समय आने पर खुद-ब-खुद इनका समाधान हो जाता है।
अभिव्यक्ति को दिल में मत घुटने दो।
इसे व्यक्त करने से मन का बोझ हल्का हो जाता है।
सुन्दर भावों को कलमबद्ध करने के लिए,
बधाई।

Mired Mirage ने कहा…

बहुत सुन्दर। खयालों के साथ ऐसा होता ही रहता है।
घुघूती बासूती

राकेश जैन ने कहा…

सोलह आने सच...बात कही आपने...अक्सर ही होता है मेरे साथ तो.

राकेश जैन ने कहा…

सोलह आने सच...बात कही आपने...अक्सर ही होता है मेरे साथ तो.

SWAPN ने कहा…

bahut sunder vandana ji, khayal to khayal hain kaabu men kahan rahte hain ek ke baad doosra phir teesra................... man kaabu men kahan rah paata hai. sunder rachna ke liye badhai

चंदन कुमार झा ने कहा…

बहुत ही सुन्दर रचना.

गुलमोहर का फूल

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

vandana ji , ise to main pahle padh hi nahi paaya tha .. waah kya baat hai , kya khoob likha hai aapne .. man prasaan ho gaya ....

kuch rishto me thoughts ka flow kuch isi tarah se hota hai ..

aapko badhai

M VERMA ने कहा…

वन्दना जी
आपके ब्लोग के पहले के पोस्ट पर नज़र डाला. बहुत अच्छी लगी आपकी यह रचना.