पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 6 जनवरी 2013

जरूरी तो नहीं ना हर बार धरा ही अवशोषित हो

गहन अन्धकार में
भीषण चीत्कार
एक शोर
अन्तस की खामोशी का
दिमाग की नसों पर
पडता गहरा दबाव
समझने बूझने की शक्ति ने भी
जवाब दे दिया हो
और कहने को कुछ ना बचा हो
बस भयंकर नीरवता सांय - सांय कर रही हो
कितना मुश्किल होता है उस वक्त
एक तपते रेगिस्तान में
उम्मीद का दरिया बहाने का ख्वाब दिखाना

बस गुजर रहा है हर मंज़र आज इसी दौर से

देखें अब और कौन सा खंजर बचा है उस ओर से
यूं तो दफ़नायी गयी हूँ हर बार देह के पिंजर में
इस बार निकली हूँ आतिशी कफ़न ओढ कर
जलूँगी  या जला दूँगी
दुनिया तुझे इस बार आग लगा दूँगी
जो आज है चिन्गारी
कल उसे ही ज्वालामुखी बना दूँगी
बस ना ले मेरे सब्र  का और इम्तिहान
बस ना कर मेरे जिस्म से और खिलवाड
क्योंकि
पैमाना अब भर चुका है
हद पार कर चुका है
बस इक ज़रा सा हवा का झोंका ही
वज़ूद तेरा मिटा देगा
इस बार अपना वार चला देगा
गर चाहे बचना तो इतना करना
मुझे मेरे गौरान्वित वजूद के साथ जीने देना

एक आह्वान …………खुद का ……खुद से ……खुद के लिये ………जीने की जिजिविषा के साथ…………


क्योंकि सफ़ेद पड चुकी नस्ली रंगत बदलने के लिये

कुछ तो आवेश की लाली जरूरी होती है
और इस बार मैने चुरा लिया है लाल रंग थोडा सा दिनकर के ताप से
जरूरी तो नहीं ना हर बार धरा ही अवशोषित हो
वाष्पीकरण की प्रक्रिया में कुछ शोषण सागर का भी होना जरूरी है …………ज़िन्दगी के लिये

10 टिप्‍पणियां:

Amrita Tanmay ने कहा…

एकदम सही कहा है आपने ..

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 09/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

धरा बोलती भी है, भूकम्प और ज्वालामुखी के रूप में।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

धरा के अवशोषित होने का भ्रम है ... अन्दर वह प्रवाहित है और दहक भी रही

पूरण खंडेलवाल ने कहा…

धारा जब उद्वेलित होती है तो भयंकर तबाही लेकर आती है !!

इमरान अंसारी ने कहा…

आक्रोशित आलेख.......गहन भाव ..........सुन्दर प्रस्तुति।

Vinay Prajapati ने कहा…

अति सुंदर कृति
---
नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

एक नयी जिंदगी के लिए अवशेष ही तो जरुरी है

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आक्रोश को कहती अच्छी प्रस्तुति ....

यशवन्त माथुर ने कहा…

बेहतरीन


सादर