पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 28 अप्रैल 2014

ज़िन्दगी के पन्ने एक अकथ कहानी से

बुझते चिराग की लौ सुना है ज्यादा टिमटिमाती है …………मगर यहाँ तो बिना टिमटिमाये ही लौ बुझ गयी……अब मैं हूँ और मेरी तन्हाइयाँ ………सोचती हूँ क्या बात करें हम ? ना ना ………किसी बिखरी याद को नहीं समेटना अब ………ना ही आगत का सोचना अब …………और वर्तमान में कहने को कुछ बचा नहीं …………ऐसे में अब मै हूँ और मेरी तन्हाइयाँ मुझसी ही तन्हा ……एक बिना सोच का , बिना बात का , बिना लक्ष्य का सफ़र तय करते हुये्………यूँ भी गुजरा करते हैं ज़िन्दगी के पन्ने एक अकथ कहानी से 

3 टिप्‍पणियां:

Anita ने कहा…

अच्छी खासी तो जल रही है आपके भीतर जिन्दगी की लौ..हमें तो उसका प्रकाश भी दीख रहा है..ऊपर ऊपर देखा जाये तो हर सफर बिना लक्ष्य का ही होता है, सब का अंत एक ही स्थान पर होता है..पर गहराई में देखें तो कोई है जो आपका हाथ पकड़ कर लिए चलता है...एक क्षण के लिए भी वह हमें अकेला नहीं छोड़ता...यह तन्हाईयाँ भी सबको नसीब नहीं होतीं..इन्हें ही साधन बना सकता है कोई..

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

जिंदगी की लौ यूं ही जीवांत रहे

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

जिंदगी की लौ यूं ही जीवांत रहे