पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 3 जून 2016

दुर्योधन व अन्य कवितायेँ ... मेरी नज़र से



मीना अरोरा का कविता संग्रह 'दुर्योधन व अन्य कवितायेँ ' एपीएन पब्लिकेशन से प्रकाशित हुआ है . बेहद सरस , सहज और सरल भाषावली में कवितायेँ पाठक मन तक पहुँचती हैं . उनकी कविताओं में कहीं व्यंग्य की तेज धार है तो कहीं सामाजिक चिंता तो कहीं राजनितिक परिवेश पर तीखा प्रहार .
पहली ही लम्बी कविता 'दुर्योधन' कवयित्री की सोच के दायरे को बताती है कि कैसे एक संवेदनशील ह्रदय जब किसी विषय पर गौर करता है और पुरा और आधुनिक काल का तुलनात्मक अध्ययन करता है तो दोनों परिवेश के आकलन से जो निष्कर्ष निकलता है वो न केवल सटीक और सार्थक होता है बल्कि मान्य भी क्योंकि काल कोई रहा हो दुर्योधन हो या रावण न मरे हैं न मरेंगे क्योंकि दोनों ही अहम् के प्रतीक हैं . आज अपने अहम् के आगे किसी रिश्ते की कोई परवाह ही नहीं रही तो क्या फर्क है उस काल में और आज के वक्त में ..........देखा जाए तो कोई फर्क नहीं और शायद यही कवयित्री के कहने का मकसद रहा . स्त्री कल भी अपमानित , प्रताड़ित होती रही आज भी , कल भी सत्ता के लिए अपनों का खून बहाया जाता रहा और आज भी . वहीँ इस कविता के माध्यम से एक और शिक्षा देने की कोशिश की है कि जब अंत काल आता है तब बड़े से बड़ा पापी दुराचारी भी अपने पापों या अपनी कमियों का आकलन करने लगता है तब जाकर वो जीवन का वास्तविक अर्थ समझ पाता है लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी होती है . वहीँ मानो दूसरी तरफ ईश्वर को भी कवयित्री कटघरे में खड़ा कर देती है और कह देती है , सब करने वाले तो तुम हो , जिसे जैसे चाहे नचाते हो और दोष मानव पर मढ देते हो . एक तीर से जाने कितने शिकार किये हैं इस कविता में कवयित्री ने .
'घटना या दुर्घटना' राजनितिक चेहरों और आम जनता के मध्य की खाई को इंगित करती एक सरल भाषा में प्रस्तुत कविता है जिससे अनजान तो कोई नहीं लेकिन कह नहीं पाते और इस कविता में कवयित्री ने उन भावों को शब्द दे दिए . यही है कवयित्री के लेखन की खूबसूरती कि वो ऐसे भावों को शब्द दे देती हैं जिन्हें कई बार इंसान शब्दबद्ध नहीं कर पाता.
मानवाधिकार , झूठी कहानी , उम्मीदों का बक्सा ,समस्या , मेरी खता आदि ऐसी कवितायेँ हैं जहाँ सामाजिक विसंगतियों पर बिना किसी शोर शराबे के कवयित्री ने प्रहार किया है जो सोचने को विवश करता है .वहीँ 'चीख' कविता में धरती की चीख के माध्यम से सारे संसार में व्याप्त अव्यवस्था, आतंकवाद , वर्चस्ववाद को बखूबी उकेरा है .
कवयित्री की कवितायें आम जन की चिंताओं की कवितायेँ हैं . यहाँ न भावों का अतिरेक है न ही विषद व्याख्याएं . एक सहज गेयात्मक शैली में संसार और मानव ह्रदय में व्याप्त समस्याओं को शब्दबद्ध किया गया है . स्त्री विषयक समस्याएं हों या आतंकवाद या बलात्कार या फिर प्रेम सब पर कवयित्री की कलम चली है . कवयित्री की कविताओं में कोई आक्रोश नहीं , कैसे सहजता से बात कही जा सकती है वो इस संग्रह को पढ़कर जाना जा सकता है . कवयित्री का लेखन इसी तरह आगे बढ़ता रहे और पाठकों को उनकी खुराक मिलती रहे , यही कामना है .

कोई टिप्पणी नहीं: