पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 6 जुलाई 2016

तुमने कहा

तुमने कहा
गर्दन झुकाओ और ढांप लो अपना वजूद
कि
अक्स दिखाई न दे किसी भी आईने में

मैंने हुक्मअदूली करना नहीं सीखा
वक्त रेगिस्तान की प्यास सा
बेझिझक मेरी रूह से गुजरता रहा
सदियाँ बीतीं और बीतती ही गयीं
और आदत में शुमार हो गया मेरी बिना कारण जिबह होना

नींद किसी शोर खुलती ही न थी
जाने कौन सी चरस चाटी थी ...

फिर तुमने कहा
जागो , उठो , बढ़ो , चलो
कि सृष्टि का उपयोगी अंग हो तुम

कि
तुम्हारे बिना अधूरा हूँ मैं
न केवल मैं
बल्कि सारी कायनात
कि
तुम्हारे होने से ही है मेरा अस्तित्व
मैं और तुम दो कहाँ
समता का नियम लागू होता है हम पर

और मैं जाग गयी
उठ गयी चिरनिद्रा से

फिर क्यों नहीं तुम्हें भाता मेरा जागरूक स्वरुप
फिर तुम पति हो , पिता , भाई या बेटे

सुलाया भी तुमने और जगाया भी तुमने
तो भला बताओ मेरा क्या दोष?

फिर भी
मैं निर्दोष जाने क्यों होती रही तुम्हारे दोषारोपण की शिकार
कशमकश में हूँ ...

3 टिप्‍पणियां:

Dilbag Virk ने कहा…

आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 07-07-2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2396 दिया जाएगा
धन्यवाद

Anita ने कहा…

जो सदा दूसरों पर निर्भर रहेगा वह चाहे कोई भी क्यों न हो सदा ही दोषी बताया जाता रहेगा, जागने का अर्थ है अपने आप पर निर्भर होना, अपना मुल्यांकन स्वयं करना, हर आत्मा को यही सीखना होगा.

kavita verma ने कहा…

bahut badiya ..