पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 2 नवंबर 2016

आ जाओ या बुला लो

आ जाओ या बुला लो
इन्ही रूई के फाहों सम
कि
पिघल न जाऊँ
गुजरे वक्त के साथ
फिर तुम आवाज़ दो तो भी आ न सकूँ


कि
यादों के आगोश में
इक बर्फ अब भी पिघलती है
क्या नम नहीं हुईं तुम्हारी हथेलियाँ


यूँ कि ये
बर्फ के गिरने का समय है
या
तुम्हारी यादों का कहर
गोया अनजान तो नहीं होंगी तुम
जानता हूँ मैं


आ जाओ या बुला लो
वक्त के फिसलने से पहले ...


पहली पंक्ति विजय सपत्ति से साभार

1 टिप्पणी:

Kavita Rawat ने कहा…

बहुत सुन्दर ...