पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लॉग से कोई भी पोस्ट कहीं न लगाई जाये और न ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 30 जून 2018

'ठहरना एक खामोश क्रिया है'

मेरी ये कविता शनिवार 16 जून को जयपुर से प्रकाशित होने वाले पेपर 'बुलेटिन टुडे' में प्रकाशित कविता हुई और आज @kusum kapoor जी के पति सुरेन्द्र नाथ कपूर जी द्वारा उसका अंग्रेजी में अनुवाद कर दिया गया ........दोनों साथ में लगा रही हूँ :) :) 


ठहरना एक खामोश क्रिया है
****************************          
मुझे 
न कहीं जाना है न आना है 
मुझे तो यहीं कहीं ठहरना है 
जैसे ठहरती है धूप आँगन में 
जैसे ठहरती है उम्मीद मन में 
जैसे ठहरती है आशा जीवन में 

नैराश्य के गह्वरों से 
दूर बनाया है मैंने अपना आशियाना 
यहाँ सुबह है 
सांझ है 
हवा है 
बारिश है 
मिटटी की सौंधी खुशबू है 
कण कण में व्याप्त है जीवन 

जीवन वो नहीं जो जीया जा रहा है 
जीवन वो है जिसने बताया तुम्हें 
कहाँ ठहरना है
कहाँ छोडनी है अपनी छाप 
कि 
कायनात के अंत के बाद भी 
बचे रहें मेरी मुस्कराहट के बीज 
कि 
रक्तबीज सी उगूँ 
और कण कण में बिखेर दूँ 
खिलखिलाहट का बीज 
हर चेहरे की मुस्कराहट के ताबीज में मिलूँ 
तो जान लेना 
मैंने जान लिया है ठहरना 
मैंने पा लिया है अपना होना 
शंखनाद सी गूंजूं और हो जाए ज़िन्दगी मुकम्मल 

जहाँ आने और जाने में शोर है 
वहीं ठहरना एक खामोश क्रिया है 
जो किसी प्रतिक्रिया की मोहताज नहीं 
करके आने जाने से मुक्त ...मुझे ठहरने दो 
क्योंकि 
मुसाफिर नहीं जो दो घूँट जल पी जल दूँ गंतव्य पर ...


Kusum Kapoor इस सुंदर रचना का अनुवाद।

I have neither to go nor come 

from anywhere.

Iam
like sunshine which stays in courtyard,
hope,which dwells in heart and life.

I have made my abode
far away from the realm of despair.
Where,
there is
dawn
evening
breeze
rain 
sweet fragrance of earth
and
Life in every atom.

Life is not just being alive

.
Life is,what tells you where to stay
and
where to leave your footprints.

So that,
the seeds of my smile may stay alive
And sprout all over
in everybody's laughter.

It is then,you realize,
that 
you have found your destination and
Your self.

I would like to sound like a counch shell
and
complete the meaning of life.

Coming and going
produce noise
whereas stillness is Silence
free from all reactions
and the cycle of coming and going.

Let me stay.

I am not a traveller
who only stops on way
to take a gulp of water.

कोई टिप्पणी नहीं: