पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 14 नवंबर 2008

मैं ख़ुद को ढूंढ रही हूँ
हर महफिल में ,हर वीराने में
हर नुक्कड़ पर,हर मोड़ पर
बस ख़ुद को ढूंढ रही हूँ

2 टिप्‍पणियां:

sandhyagupta ने कहा…

Gehri baat ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बाहर बजती है शहनाई, लेकिन अन्तर रोता है।
मेरे मन यह जरा बता दो, ऐसा क्यों होता है।।