पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 15 सितंबर 2015

पखवारे भर का खेल


आज के हमारा मेट्रो में प्रकाशित आलेख :


चलिए एक बार फिर कर लें कोरम पूरा आखिर यही तो है औचित्य . इससे आगे न राह है न मंजिल . सिर नवाओ और आगे बढ़ जाओ यहीं तक हैं हमारी चिंताएं .

 चिंतित होना हमारा स्वभाव जो ठहरा तो कैसे गरियाए बिना रह जायेंगे . हर बार की तरह इस बार फिर मौका हाथ लगा है तो क्यों पीछे रहें , क्यों न बहती गंगा में हाथ क्या पूरी तरह नहा - धो हम भी पवित्र हो जाएँ . आखिर हम ही तो हैं खैरख्वाह और खुद को खैरख्वाह सिद्ध करने का इससे बढ़कर भला और क्या उपाय होगा जहाँ हींग लगे न फिटकरी रंग चोखा आ जाए .

एक दिन या है फिर तो वो ही आम दिन आम बातें हैं तो मौका भी है और दस्तूर भी इसलिए हो जाते हैं सभी स्यापा पीटने को तैयार अपने दल बल के साथ . जो जितना जोर से स्यापा पीटेगा उतना ही उस पर ध्यान जाएगा तो खैरख्वाह खुद ही सिद्ध  हो जाएगा और इसके लिए करना ही क्या है जहाँ भी किसी को कोई भी अंग्रेजी शब्द कहते देखो वहीँ फटकारना शुरू कर दो , " आज तुम्हारी ही वजह से ये हाल है हिंदी का , कैसे गिटर पिटर विदेशी भाषा में करते हो लेकिन अपनी ही भाषा से मुंह फेरकर कौन सा महान काम करते हो , भले आदमी अपनी भाषा का सम्मान करना सीख वर्ना ........ निष्कासित कर दिए जाओगे हमारे समाज से , हम तुम्हें चैन से रहने नहीं देंगे , तुम्हारा वो मखौल उड़ायेंगे कि साँस भी लोगे तो हिंदी में ही लोगे फिर ज़िन्दगी भर " . बस फिर देखो कैसे तुम ही हिंदी के महान शुभचिंतकों में गिने जाओगे फिर चाहे तुम्हारे घर में हिंदी के नाम से ही बीवी बच्चे नाक भौं सिकोड़ते हों या फिर तुम्हारे घर की कामवाली बाई भी अंग्रेजी में ही बात क्यों न करती हो . कौन जांच पड़ताल करने जायेगा भला ? मगर तुम्हारी तो निकल ही पड़ेगी न .........तुमसा शुभचिंतक पा आस पड़ोस हो या दफ्तर या साहित्य सब धन्य हो जायेंगे . आखिर कोई तो है जो हिंदी के बारे में सोचता है .........

दो चार विचार गोष्ठियां कर लो , दो चार आलेख अख़बारों आदि में छपवा दो , दो चार आन्दोलन कर लो ,बस इसी में निकल जाएगा पखवारा उसके बाद तू कौन मैं कौन . सब अपनी अपनी राह पकड़ लेंगे मगर उससे पहले तुम जरूर सबकी निगाह में आ जाओगे और अपना एक मुकाम पा जाओगे . हिंदी के महान खैरख्वाह सिद्ध हो जाओगे .

बस इतना भर ही तो है औचित्य हिंदी दिवस कहो या हिंदी पखवारे का , कौन सा तुम्हारे शोर मचाने से सत्ता बदलेगी या सोच . कौन से हर सरकारी काम हिंदी में होने लगेगा , कौन सा तुम्हारे कहने से प्रधानमंत्री हो या विदेश मंत्री या राष्ट्रपति हिंदी में बात करने लगेगा और दुभाषिये का प्रयोग करेंगे विदेशों में या फिर कौन सा वो हिंदी को संसार की भाषा बनाने के लिए संकल्प ले एक अभियान छेड़ देंगे क्योंकि जब अपने देश में ही सर्वमान्य नहीं है तो और किससे और क्या उम्मीद की जा सकती है , अपने देश में ही अलग अलग प्रान्त की अलग अलग भाषा है वहां भी हिंदी ऑप्शनल है तो कैसे संभव है तस्वीर का रुख पलटना वर्ना उनका वोट बैंक खतरे में न आ जाएगा , ऐसे निर्णय सोच समझकर लिए जाते हैं भावनाओं में बहकर नहीं तभी अभी तक हिंदी राजभाषा है राष्ट्रभाषा नही .........यहाँ न कुछ बदला है न बदलेगा . बस स्यापा करने वालों का नाम जरूर रौशन हो जाएगा और फिर अगले बरस तक के लिए विराम लग जाएगा .

ये तो नफीरी ढोल ताशे बजा हिंदी को बचाने का मौसम आया है
जिसके बाद तो बस पतझड़ का साया ही उसके हिस्से आया है

कोई टिप्पणी नहीं: