पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 27 मई 2008

जीने का ढंग

जीना सीखना है तो फूल से सीख , सब kucchh सहना और हँसते रहना ,
हर सुबह काँटों की गोद में आँखें खोलना और phir भी मुस्कुराते रहना ,
कभी उफ़ भी न करना ,आह भी न भरना ,हर ज़ख्म पर मुस्कुराते रहना ,
क्या kismat पाई है ------- dard सहकर भी सबको मुस्कान देना ,
हर चाहत को दूसरे की खुशी में jazb कर देना ,
अपने dard का kisi को अहसास भी न होने देना,
रात भर काँटों के bistar पर गुजारना ,
और fir अगली सुबह वो ही मुस्कराहट होठों पर सजा कर रखना ,
आसान नही होता ..................................................................
सीख सके तो सीख जीने का ढंग ,
सहने का ढंग ,मुस्कुराने का ढंग ,
सबको खुशीयाँ बाँटने का ढंग

1 टिप्पणी:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आशा और निराशा के क्षण, पग-पग पर मिलते है।
काँटों की पहरेदारी में ही, गुलाब खिलते हैं।।
पतझड़ और बसन्त कभी हरियाली आती है।
सर्दी-गर्मी सहने का, सन्देश सिखाती है।
यश और अपयश साथ-साथ दायें-बायें चलते हैं।
काँटों की पहरेदारी में ही, गुलाब खिलते हैं।।