पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 17 जनवरी 2009

और वो हार गया

वो कहीं नही हारा
हर पल जीतता रहा
आगे बढ़ता ही रहा
कोई राह,कोई डगर
उसका रास्ता न रोक सकी
हर कठिनाई से जूझता हुआ
ज़िन्दगी की हर कठिन
परीक्षा देता हुआ
हर पल सिर्फ़ आगे ही
आगे बढ़ता गया
अपने अनंत लक्ष्य की ओर
चलते चलते
सिर्फ़ एक ठोकर ने उसे
यथार्थ के धरातल par
ला खड़ा किया
जो कहीं नही हारा
जो कहीं नही झुका
वो आज लहूलुहान
हो गया
आज उसे जिसने मारा
वो उसके अपने थे
जिनके लिए वो
ता-उम्र जीता रहा
हर पल लड़ता रहा
आज उन्ही रिश्तों ने
उसे कितना बेबस कर दिया
जिन रिश्तों पर उसका
भरोसा टिका था
जिन रिश्तों के बिना
उसका अस्तित्व ही न था
आज उन्ही रिश्तों ने
उसे बेसहारा कर दिया
आज हर पल जितने वाला
वो इंसान
रिश्तों से हार गया
रिश्तों ने उसे तोड़
तोड़ दिया और
वो बिखर गया

10 टिप्‍पणियां:

विनय ने कहा…

बहुत बढ़िया कविता


---मेरा पृष्ठ
गुलाबी कोंपलें

---मेरा पृष्ठ
चाँद, बादल और शाम

Dev ने कहा…

वो इंसान
रिश्तों से हार गया
रिश्तों ने उसे तोड़
तोड़ दिया और
वो बिखर गया

BAhut sundar rachana....

makrand ने कहा…

रिश्तों से हार गया
रिश्तों ने उसे तोड़
तोड़ दिया और
वो बिखर गया
bahut sunder rachana

mamta ने कहा…

बहुत अच्छी रचना ।

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

अच्छा और सच कहा है आपने। रिश्तों के नीचे की जमीन खोखली होने लगी। जब ही ये टूटने लगे है। इनमें माया, मोह, चमक, दमक नाम के दीमक लग चुके है।

संगीता पुरी ने कहा…

जिन रिश्तों पर उसका
भरोसा टिका था
जिन रिश्तों के बिना
उसका अस्तित्व ही न था
आज उन्ही रिश्तों ने
उसे बेसहारा कर दिया
रिश्‍ते बहुत धोखा देते हैं....सचमुच हरा देते हें किसी को भी।

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत सही!!

अक्षय-मन ने कहा…

ऐसा लगा जैसे आप मुझे जानती हो और मेरे बारे में लिखा हो पता नही हर शब्द में ख़ुद को देख रहा ...
कैसे लिख लेती हैं आप ऐसा....
हर रिश्ते को आइना मानता हूं
टूटता वो है बिखर मैं जाता हूं

अक्षय-मन

Amit ने कहा…

bahut badhiya kavita........

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

vandana ,

kitni gahri baat kah gayi ho aap...

जिन रिश्तों के बिना
उसका अस्तित्व ही न था
आज उन्ही रिश्तों ने
उसे बेसहारा कर दिया !!

saara jeevan , insaan , apne aas paas ke rishton ko nibhaane mein hi laga rahta hai , aur ant mein use ye gati milti hai ..

meri ye poem inhi rishto par likhi hai : " laash " padhiyenga jarur..

vijay