पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 5 अगस्त 2010

विनाश के चिन्ह यादो की धरोहर बन जाते हैं

ये सीने में कैद
ज्वार- भाटे 
उफन कर
बाहर आने 
को आतुर
जब होते हैं 
अपने साथ
विनाश को भी 
दावत देते हैं
कहीं अरमानो के 
मकानों को 
धराशायी 
कर जाते हैं
कहीं हसरतों
के वृक्ष
उखड जाते हैं
तमन्नाओं की 
सुनामी में
सभी संचार 
के माध्यमो को
नेस्तनाबूद कर
विनाश पर 
अट्टहास करते हैं
और चहुँ ओर
फैली वीभत्स
नीरवता 
एक शून्य 
छोड़ जाती है
और विनाश 

के चिन्ह 
यादो की 
धरोहर 
बन जाते हैं
कभी ना 
मिटने के लिए

35 टिप्‍पणियां:

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

kabhi na mitne ke liye..

wah wah...

रवि कान्त शर्मा ने कहा…

सीने में कैद
ज्वार- भाटे
उफन कर
जब बाहर आ
जाते हैं तो
एक नूतन रचना
रच जाते हैं।
दृष्टिकोण अपना-अपना!

राजेश उत्‍साही ने कहा…

अच्‍छा यही होगा कि उन्‍हें बाहर ही न आने दें। पी जाएं शिव की तरह गरल बनाकर।

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

विनाश में ही अंतर्भूत होता है सृजन और निर्माण. सृजन उत्तरार्द्ध है विनाश का. आपने बड़ी ही कुशलता से छिपा लिया है इस बात को और छोड़ दिया है पाठको के लिए . यह रचना कहीं से भी निराशावादी नहीं है. हाँ एक कलेवर जरुर ओढ़ रखा है इसने. अच्छी रचना कुछ चहकती हुई मनोभावों को द्रवित और पुनर्निर्माण के लिए प्रेरित करती रचना. यह उलटबांसियों की याद दिलाती है

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

विनाश में ही अंतर्भूत होता है सृजन और निर्माण. सृजन उत्तरार्द्ध है विनाश का. आपने बड़ी ही कुशलता से छिपा लिया है इस बात को और छोड़ दिया है पाठको के लिए . यह रचना कहीं से भी निराशावादी नहीं है. हाँ एक कलेवर जरुर ओढ़ रखा है इसने. अच्छी रचना कुछ चहकती हुई मनोभावों को द्रवित और पुनर्निर्माण के लिए प्रेरित करती रचना. यह उलटबांसियों की याद दिलाती है

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ओह....क्या तमन्नाओं की सुनामी आई ...अरमानों के मकाँ और हसरतों के वृक्ष उखड गए ..यह यादों की धरोहर ...उफ़....क्या कहूँ ? सबको सीने में कैद ही रखिये ...ज्वार की तरह मत उफनने दीजिए भाटा अपने आप शांत कर देगा ....सुन्दर अभिव्यक्ति

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

विनाश
के चिन्ह
यादो की
धरोहर
बन जाते हैं
कभी ना
मिटने के लिए

वाह क्या बात है !

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi khub likha hai aapne...
achhi rachna....

राजेश उत्‍साही ने कहा…

वंदना जी आपकी कविता का एक संपादित रूप प्रस्‍तुत है-

सीने में कैद
ज्वार- भाटे
उफन कर
जब बाहर आते हैं
विनाश को भी
साथ लाते हैं

अरमान
धराशायी
कर जाते हैं
हसरतों
के पैर
उखड जाते हैं

तमन्नाओं की
सुनामी
तोड़कर तार बेतार
विनाश पर
अट्ठहास करती है

फैलती
नीरवता शून्य
छोड़ जाती है

विनाश
के चिन्ह
यादों की
धरोहर
बन जाते हैं

nilesh mathur ने कहा…

कहीं अरमानो के
मकानों को
धराशायी
कर जाते हैं
कहीं हसरतों
के वृक्ष
उखड जाते हैं!!
कमाल कि अभिव्यक्ति! बहुत खूब! बेहतरीन!

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

विनाश में ही अंतर्भूत होता है सृजन और निर्माण. सृजन उत्तरार्द्ध है विनाश का. आपने बड़ी ही कुशलता से छिपा लिया है इस बात को और छोड़ दिया है पाठको के लिए . यह रचना कहीं से भी निराशावादी नहीं है. हाँ एक कलेवर जरुर ओढ़ रखा है इसने. अच्छी रचना कुछ चहकती हुई मनोभावों को द्रवित और पुनर्निर्माण के लिए प्रेरित करती रचना. यह उलटबांसियों की याद दिलाती है

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

विनाश में ही अंतर्भूत होता है सृजन और निर्माण. सृजन उत्तरार्द्ध है विनाश का. आपने बड़ी ही कुशलता से छिपा लिया है इस बात को और छोड़ दिया है पाठको के लिए . यह रचना कहीं से भी निराशावादी नहीं है. हाँ एक कलेवर जरुर ओढ़ रखा है इसने. अच्छी रचना कुछ चहकती हुई मनोभावों को द्रवित और पुनर्निर्माण के लिए प्रेरित करती रचना. यह उलटबांसियों की याद दिलाती है

arun c roy ने कहा…

"एक शून्य
छोड़ जाती है
और विनाश
के चिन्ह
यादो की
धरोहर
बन जाते हैं"
बहुत गंभीर बात कह रही हैं आप इस कविता के माध्यम से . चाहे प्रकृति हो या आम जीवन, किसी विनाश से जो शुन्य बनता है वह स्मृति पटल पर बहुत गहरी स्मृति छोड़ जाता है.. आपकी पंक्तियों में गहरा दर्द भी झलक रहा है..

रश्मि प्रभा... ने कहा…

aur ye dharohar maksad ban jaate hain

Deepak Shukla ने कहा…

वंदना जी...

मन के ज्वार उफनते जब हैं...
सब कुछ मिटा हटा हैं देते...
अरमानों के संग हसरतों...
को भी दूर बहा हैं देते...

सुन्दर भाव..

दीपक...

सलीम ख़ान ने कहा…

ati-sundar vandanaa jee !!!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मन के ज्वार भाटों की चित्रकारी है यह दुनिया।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

ये सीने में कैद
ज्वार- भाटे
उफन कर
बाहर आने
को आतुर
जब होते हैं
अपने साथ
विनाश को भी
दावत देते हैं
--

बहुत ही मँजी हुई पोस्ट लिखी है!
--
एक-एक शबाद करीने से सजाया है आपने!

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

आज की चर्चा में कुछ खास है आपके लिए..

आप की रचना 06 अगस्त, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपने सुझाव देकर हमें प्रोत्साहित करें.
http://charchamanch.blogspot.com

आभार

अनामिका

Asha ने कहा…

एक मनको छूने वाली रचना |बधाई
"कहीं हसरतों के वृक्ष -------करते हें "
बहुत गहरा सोच है |
आशा

महफूज़ अली ने कहा…

निहायत ही उम्दा रचना.

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

विनाश के बाद ही सृजन और निर्माण की प्रक्रिया प्रारंभ होती है ... पर विनाश यादगार हो जाता है जीते जी स्मृति पटल पर अंकित रहता है ...बहुत सुन्दर रचना ....आभार

शारदा अरोरा ने कहा…

कविता सच उगल रही है ...ये ज्वार-भाटे सोडा वाटर की तरह उफन कर परिस्थितियों को बिगाड़ भी सकते हैं ...देखिये हर किसी ने अपने अपने तरीके से उठाया कविता को । आपके ब्लॉग का नाम बहुत अच्छा है , इसे पढ़कर मैंने एक कविता रची है ...जख्म जो फूलों ने दिए ...हाय सजा के बैठे थे , फूलदानों में ...अहसास भूलों ने दिए ..बाकी की कविता ब्लॉग पर प्रस्तुत करूंगी ...ये जख्म संवेदन शील रिश्तों के फूलों की मार के हैं । है न ?

rashmi ravija ने कहा…

ये सीने में कैद
ज्वार- भाटे
उफन कर
बाहर आने
को आतुर
जब होते हैं
अपने साथ
विनाश को भी
दावत देते हैं
बहुत ही गहरी अभिव्यक्ति...इसीलिए जरूरी है की सीने में दबे तूफानों को..सही रास्ता दिखाया जाए कि वह विनाश नहीं...विकास का रास्ता प्रस्तर करे.

Rajiv ने कहा…

Vandana jee,sagar ya prakriti ka hi chota roop hai manushya.Sagar me uthe sunami kahar tosabhi dekhte hain,lekin uske sahare aapke dikhya gaya sunami to aap jaie samvedansheel log hi dekh pate,samajh pate hain.

Rajiv ने कहा…

Vandana jee,sagar ya prakriti ka hi chota roop hai manushya.Sagar me uthe sunami kahar tosabhi dekhte hain,lekin uske sahare aapke dikhya gaya sunami to aap jaie samvedansheel log hi dekh pate,samajh pate hain.

sanu shukla ने कहा…

bahut sundar...

sanu shukla ने कहा…

bahut sundar...

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति।
राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

Sadhana Vaid ने कहा…

बहुत ही प्रभावशाली अभिव्यक्ति ! जब यह तूफ़ान ह्रदय में सिमट नहीं पाटा है तो कभी-कभी ज्वालामुखी की तरह फट भी पडता है और इंसान अपने ही अरमानों, ख़्वाबों और यादों के लावे के नीचे दब कर दम तोड़ देता है ! सुन्दर रचना ! आभार एवं शुभकामनाएं !

अजय कुमार ने कहा…

धरोहर संभाल कर रखने के लिये होता है ।

anita ने कहा…

तमन्नाओं का सुनामी ....क्या जल-जला ले आएगा ....हसरतों के वृक्ष उखड जाएंगे...बहुत खूब प्रस्तुति

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

एक भावपूर्ण रचना...सुंदर

बधाई!!!

anupama ने कहा…

sach !chinhon ka yaadon ke galiyare mein stambh ban jana awashyambhavi sa hai!

sundar abhivyakti:)
subhkamnayen....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

और ये चिन्ह मिटने भी नही चाहिएं .... भावी पीडी को इनके निशान दिखने चाहिएं ....