पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

मंगलवार, 8 मई 2012

हरिभूमि में ‘ज़िन्दगी एक खामोश सफ़र’


जहाँ ना पहुंचे रवि वहाँ पहुंचे पाबला जी .......अगर ये कहूं तो कोई अतिश्योक्ति नहीं .....देखिये हमें खबर भी नहीं और पाबला जी ने घर बैठे बता दिया ........दिल से शुक्रगुजार हूँ उनकी .......और मै ही क्या हर वो ब्लोगर होगा जिसे भी वो घर बैठे खबर देते हैं । इतनी मेहनत करना और सूचित करना वो भी बिना किसी स्वार्थ के ………ये सिर्फ़ पाबला जी ही कर सकते हैं।




सोमवार ७ मई २०१२ में पब्लिश पेज ४ पर 



आई आई टी का हाल: हरिभूमि में ‘ज़िन्दगी एक खामोश सफ़र’



चाहें तो इस लिंक पर जाकर देख सकते हैं .

19 टिप्‍पणियां:

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

badhayi aur sirf badhayi ..
hame chahiye is baat kee mithayi

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सार्थक प्रश्न उठाया गया था .... तुम्हारी बात समाचार पत्र के माध्यम से लोगों तक पहुंची ॥बधाई

Kailash Sharma ने कहा…

हार्दिक बधाई...

shikha varshney ने कहा…

मुबारक हो जी.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत बहुत बधाई हो...

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

बधाई!...बहुत सार्थक लेख था!.. समाचार पत्र के माध्यम से इसे प्रचारित किया गया...बहुत अच्छा लगा!

SANTOSH KUMAR JHA ने कहा…

बहुत ही सुन्दर लिखा है

SANTOSH KUMAR JHA ने कहा…

बहुत ही सुन्दर लिखा है

SANTOSH KUMAR JHA ने कहा…

बहुत ही सुन्दर लिखा है

रश्मि प्रभा... ने कहा…

badhaai

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

bahut bahut badhi ho vandana ji

मनोज कुमार ने कहा…

बधाई जी।

मनोज कुमार ने कहा…

बधाई जी।

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

bahut badhiyaa...congrats!!

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन रचना....
मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन रचना....
मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

नीरज गोस्वामी ने कहा…

पाबला महान हैं....

सदा ने कहा…

बहुत - बहुत बधाई सहित शुभकामनाएं ।

M VERMA ने कहा…

बधाई