पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 17 जून 2012

इक हसीं शाम के संग्………पुस्तक विमोचन की एक झलक

सतीश सक्सैना जी की पुस्तक "मेरे गीत" के विमोचन की कुछ झलकियाँ




सतीश जी के लिये सरप्राइज़ पैकेट
 




 आखिर
 हमने भी धरना दे ही दिया
 





सतीश सक्सैना जी की पुस्तक मेरे गीत का विमोचन
 




 आ गये आ गये…… छा गये छा गये


 मुकेश की खामोशी भी बोलती है



बार बार दिन ये आये
 …है ना मुकेश





सुनीता शानू जी अपने बेटे के साथ
 




 मेरे गीत का विमोचन



 एक शाम ब्लोगर मंडली के नाम



खामोश खामोशी और हम का विमोचन
 




 रश्मि प्रभा जी के संपादन मे मुकेश छा गया



दिल की ये आरजू थी कोई दिलरुबा मिले ……मिल गयी ना मुकेश:)
 





मुख्य अतिथि देवेन्द्र शर्मा इन्द्र ,जी सतीश जी, राजेन्द्र अग्रवाल जी ,अमिताभ जी



अपने अन्दाज़ मे




सतीश जी का भावपूर्ण स्वागत वक्तव्य
 आँखें नम कर गया




 मुस्कुराहट बेसबब तो नही



संजय भास्कर के साथ राजीव तनेजा जी
 





जो खुद बोलती है 



मुख्य अतिथि का वक्तव्य
 





ध्यान से सुनते अतिथि



सभा मे उपस्थित अतिथिगण
 





ध्यान से सुनते हुये
 





सबके अपने अपने विचार
 





अरुण जी एक बार फिर हत्थे चढ गये आँख बंद किये :)
 





अंजू के साथ
 





शहनवाज़ जी के साथ



सुन्दर शाम के सुन्दर पल
 




छा गये गुरु
 


19 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

बहुत अच्छा लगा जानकर .... साझा करने का आभार

Rakesh Kumar ने कहा…

आपकी प्रस्तुति का अंदाज निराला है.

आप सब के दर्शनों से ही चित्त प्रसन्न हो गया है.

सभी को हार्दिक बधाई,विशेषकर सतीश
भाई को.

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

वंदना,

यार तुम दिल्ली वाले खूब सारी चीजों में शिरकत कर सकते हो, लेकिन ख़ुशी इस बात की है कि तुम्हारे शिरकत करने का फायदा हमको मिल ही जाता है. ऐसा सचित्र और सजीव वर्णन कहाँ मिलता ? बस इसी तरह से हम दूर वालों की प्रतिनिधि बन कर हमें सब दिखती रहना.
सतीश जी, रश्मि प्रभा जी और मुकेश को हार्दिक बधाई.

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

waah bahut accha ....badhai....

डॉ टी एस दराल ने कहा…

पुस्तक विमोचन के शानदार समारोह का बहुत बढ़िया कवरेज़ .
लेकिन हैरान हूँ , इतने फोटो खींचे किसने !

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

वाह वंदना जी, बढिया कवरेज किया कार्यक्रम। चित्र में अन्ना बाबा बहुत हल्के लग रहे हैं। वैसे कार्यक्रम का लाईव राजीव जी ने कर दिया था। कौन कौन ब्लागर पहुंचा इसकी सूचना मिल गयी थी।

बधाई

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi ने कहा…

बहुत इ्च्छा होते हुए भी इस समारोह में नहीं पहुँच सका।
चित्रों को देख कर मन आनन्दित हो गया।
सतीश जी को अनन्त बधाइयाँ!
कामना है कि उन का प्रबंध काव्य भी जल्दी पूरा हो और पुस्तक रूप में हम तक पहुँचे।

Dr.Ashutosh Mishra "Ashu" ने कहा…

satishh jee ko mere geet ke prakashn par hardik badhayee...aapka chitratmak barnan , tamam badi shakshiyton se parichit karane ka andaaj behad khoobshurat hai,,,aap apne tareeke se har baat ko ekdam jeewant kar deti hin aapko aaur rashmi ko bhee hardik badhayee

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कल ही पढ़ी है यह पुस्तक, कहने के लिये बहुत कुछ है...

M VERMA ने कहा…

बहुत खूब ..
सुन्दर प्रस्तुति

Shah Nawaz ने कहा…

वाह.... बढ़िया कवरेज की आपने तो... सबसे मिलकर अच्छा लगा...

Anupama Tripathi ने कहा…

waah sachitra varnan ....
achchha laga ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

कार्यक्रम की बढ़िया रिपोर्ट .... सुंदर चित्रों से सुसज्जित

वाणी गीत ने कहा…

सबको खूब बधाई है जी !

ब्लॉ.ललित शर्मा ने कहा…

**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
*****************************************************************
सीधा प्रसारण

केरा तबहिं न चेतिआ,
जब ढिंग लागी बेर



♥ आपके ब्लॉग़ की चर्चा ब्लॉग4वार्ता पर ! ♥

♥ संडे सन्नाट, खबरें झन्नाट♥


♥ शुभकामनाएं ♥
ब्लॉ.ललित शर्मा
**************************************************
~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन रचना....
मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

beautiful

shikha varshney ने कहा…

बढ़िया ...

सतीश सक्सेना ने कहा…

वंदना जी,
क्षमा चाहता हूँ , आपने बताया नहीं और हम आपका यह पेज देखना भूल गए ( बुड्ढा सा...) ...
बढ़िया रपट के लिए आभार आपका