पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 1 दिसंबर 2012

मुझे ऐसा प्यार करना कभी आया ही नहीं

सुनो
जानते हो
मुझे प्रेम करना कभी आया ही नहीं
बस चाहतों ने सिर्फ़ तुम्हें चाहा
क्योंकि
तुम धुरी थे और मैं
तुम्हारे चारों तरफ़ घूमता वृतचित्र
कभी जो तुम्हें दिखा ही नहीं
तुमने महसूसा ही नहीं
बस वो ही त्याग किया मैने
क्या प्यार वहीं स्वीकृत है
जहाँ जताकर कुछ छोडा जाये
जहाँ बताकर अपने त्याग को
छोटा किया जाये
जहाँ जेठ की तपती धरती
अपने सेंक से तुम्हें भी तपा दे
जहाँ शून्य से भी सौ डिग्री नीचा तापमान हो
और तुम्हें अपनी कडकडाती हड्डियों
जकडी हुयी साँसों
पथरायी आँखों
का अहसास कराया जाये
तो क्या तभी प्यार होता है
सच जानम …………
मुझे ऐसा प्यार करना कभी आया ही नहीं

प्यार की खन्दकों में तेज़ाब भी खौलते हैं

फिर चाहे ऊपरी सतहें खामोश दिखती हों
इसलिये
सतही प्यार के फ़ूल खिलाने के लिये मैने वो आशियाना बनाया ही नहीं
लेकिन ये सच है ………जैसा तुमने चाहा
वैसा प्यार करना मुझे आया ही नहीं …………

10 टिप्‍पणियां:

सदा ने कहा…

जैसा तुमने चाहा ...
क्‍या बात है ... बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने
आभार

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

नारी मन की सच्ची अभिव्यक्ति ...प्यार शर्तों पर नहीं ...दिल से होता है ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ओह .... न जाने कैसे प्रेम की तलाश है ....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
दो दिनों से नेट नहीं चल रहा था। इसलिए कहीं कमेंट करने भी नहीं जा सका। आज नेट की स्पीड ठीक आ गई और रविवार के लिए चर्चा भी शैड्यूल हो गई।
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (2-12-2012) के चर्चा मंच-1060 (प्रथा की व्यथा) पर भी होगी!
सूचनार्थ...!

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

पढ़ कर तो ऐसा लगता है कि आप प्यार की पराकाष्टा पर हैं. लगे रहिये, आ ही जायेगा. हम भी कभी ऐसा ही समझते थे.
बढ़िया ढंग से मन की गांठों को खोला है. गहराई तक जाकर भाव व्यक्त किये हैं रचना के लिए बधाई है.
कवि मन ऐसा होता है कि जरूरी नहीं जो लिखा जाये वह भोगा हुआ यथार्थ हो.

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

पढ़ कर तो ऐसा लगता है कि आप प्यार की पराकाष्टा पर हैं. लगे रहिये, आ ही जायेगा. हम भी कभी ऐसा ही समझते थे.
बढ़िया ढंग से मन की गांठों को खोला है. गहराई तक जाकर भाव व्यक्त किये हैं रचना के लिए बधाई है.
कवि मन ऐसा होता है कि जरूरी नहीं जो लिखा जाये वह भोगा हुआ यथार्थ हो.

devendra gautam ने कहा…

भावों का अद्भुत बिस्तार...एक कसक की अनुभूति देता...बहुत खूब!....बढ़िया लगी ये नज़्म. बधाई!

वाणी गीत ने कहा…

प्यार करने वाले को जताने की जरुरत कहाँ थी , स्वतः अभिव्यक्त हो ही रहता है !!

Anita ने कहा…

कितनी गहराई है........ प्यार बोलता नहीं, छूता नहीं... बस महसूस होता है !
~सादर !!!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्यार की मात्रा और उसे व्यक्त करने में सदा ही भिन्नता रही है।