पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 27 जुलाई 2014

जैसे कोई स्वप्न साकार हुआ हो

डायलॉग में सदी के शीर्ष कवि केदार नाथ सिंह को ज्ञानपीठ मिलने पर नागरिक अभिनंदन और बधाई और उनका एकल कविता-पाठ के सुअवसर पर उनसे रु-ब-रु होने का छोटा सा मौका हमने भी सहेज लिया ……एक अनमोल पलों का साक्षी बन खुद को गौरान्वित महसूसा ……जैसे कोई स्वप्न साकार हुआ हो 

















3 टिप्‍पणियां:

Anita ने कहा…

वाह..बहुत अनमोल क्षण रहे होंगे..

BLOGPRAHARI ने कहा…

प्रिय ब्लॉगर
आपका पोस्ट ब्लॉगप्रहरी पर प्रकाशित हो रहा है, अपने पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों के बीच पहुचाने के लिए ब्लॉगप्रहरी पर अपनी सक्रियता बनाये रखें !
धन्यबाद

BLOGPRAHARI ने कहा…

प्रिय ब्लॉगर
आपका पोस्ट ब्लॉगप्रहरी पर प्रकाशित हो रहा है, अपने पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों के बीच पहुचाने के लिए ब्लॉगप्रहरी पर अपनी सक्रियता बनाये रखें !
धन्यबाद