पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 4 सितंबर 2008

किसी की चाहत में ख़ुद को मिटा देना बड़ी बात नही
गज़ब तो तब है जब उसे पता भी न हो

1 टिप्पणी:

Saagar ने कहा…

woh jo ishq tha, woh junun tha.
yeh jo hizr hai, y eh naseeb hai---


fihaal, bas yahi kahunga ki ............. yeh abhiwayakti uttam hai.