पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 19 अक्तूबर 2011

यूँ ही डिग्रियां नहीं मिलतीं मोहब्बत की

मत खुलना कभी
किताब की तरह
तुम्हें पन्ने दर पन्ने
सुलझाना 
एक पहेली की तरह
अच्छा लगता है
आखिर कुछ तो हो
जिसकी तलाश में 
जूनून कायम रहे
यूँ पढ़ तो लिया है 
हर हर्फ़ तुम्हारी 
खामोश निगाहों में
मगर अभी उसकी
व्याख्या बाकी है
आखिर समीक्षक 
भी तो होना चाहिए
हर लफ्ज़ में घुटे
चीत्कार करते 
अहसासों को 
तर्क की कसौटी 
पर कसकर फिर 
उसके सन्दर्भ 
पर शोध भी तो 
करना होगा 
आखिर यूँ ही थोड़े 
किसी लफ्ज़ 
किसी भाव
या किसी चाहत को तुम्हारी
सरसरी तौर पर पढ़ा है
शोध की दिशा में
गहन अध्ययन आवश्यक होता है
यूँ ही डिग्रियां नहीं मिलतीं मोहब्बत की 

43 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

यूँ पढ़ तो लिया है हर हर्फ़ तुम्हारी खामोश निगाहों में मगर अभी उसकी व्याख्या बाकी है... ध्यानावस्थित मन ही आँखों के हर्फ़ पढ़ पाता है

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

गहन शोध ज़रुरी है ... वैसे मुहब्बत की डिग्री मिलती है क्या ?

SAJAN.AAWARA ने कहा…

Agar mohabbat me bhi digri hoti to baat hi kya thi..........
Nice poem,jai hind jai bharat

राजेश उत्‍साही ने कहा…

इस शोध के लिए शुभकामनाएं।

Atul Shrivastava ने कहा…

यूं ही नहीं मिलती मुहब्‍बत की डिग्रियां....
बेहतरीन प्रस्‍तुति।

सदा ने कहा…

वाह ...बहुत खूब कहा ...।

NISHA MAHARANA ने कहा…

very nice.

कुमार राधारमण ने कहा…

व्याख्या,तर्क,समीक्षा,घुटन और चीत्कार जहां हो,वहां मुहब्बत नहीं,कुछ और रहा होगा!

shikha varshney ने कहा…

एक आग का दरिया है और डूब कर जाना है ..सच है आसान नहीं मोहब्बत.

rashmi ravija ने कहा…

बहुत बढ़िया...

Maheshwari kaneri ने कहा…

मुहब्बत में डिग्री मिलनी बहुत दूर की बात है..हम तो इसमें पास हो जाए बहुत है....इस शोध के लिए शुभकामनाएं।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

संवेदना से भरी कविता... बहुत सुद्नर...

Madhu Tripathi ने कहा…

वंदना जी
कोई डिग्री तो नक़ल करके ली जा सकती है किन्तु मोहब्बत की डिग्री के लिए बड़ी मेहनत करनी पड़ती है बेहतरीन प्रस्तुति

मधु त्रिपाठी MM
tripathi873@gmail.com
http://www.kavyachitra.blogspot.com

Madhu Tripathi ने कहा…

वंदनाजी

हमारे ब्लॉग पर आप पधारे मुझे अच्छा लगेगा
htpp://www.kavyachitra.blosspot.com

बेनामी ने कहा…

क्‍या बात है आपने तो नि:शब्‍द कर दिया यहां ..।

monali ने कहा…

Are wah aise to kabhi socha nahi.. sach is course ko padhne ka motivationk hatam hota jata tha.. aapne wapas jila dia.. shukriya :)

दिगम्बर नासवा ने कहा…

मुहब्बत की डिग्री हर किसी क हांसिल कहाँ होती है ... लाजवाब ...

नीरज गोस्वामी ने कहा…

वंदना जी नमन है आपकी लेखनी को..अद्भुत रचना.

नीरज

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत बढ़िया!
कौन से विश्वविद्यालय में पी.एच.डी. के लिए शोध जमा करना होगा?

ZEAL ने कहा…

shaandaar rachna Vandana JI.

M VERMA ने कहा…

शोध जारी रहे ... डिग्री जल्द मिले

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्रेम परीक्षक, ऊपर वाला।

अनुपमा पाठक ने कहा…

शोध से कई सत्य नए सिरे से स्थापित हो जाते हैं....!
सुन्दर रचना!

अनुपमा पाठक ने कहा…

शोध से कई सत्य नए सिरे से स्थापित हो जाते हैं....!
सुन्दर रचना!

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

बेहतरीन रचना.
अजीब विश्व और अजीब विद्यालय है-
किताबों का गहन अध्ययन कर शोध करे,डॉक्टर की डिग्री मिलती है.
दिल की किताब का गहन अध्ययन कर शोध करे,मरीज की डिग्री मिलती है.
और इस मरीज का इलाज वो करता है जिसने न कभी अध्ययन किया है न किसी तरह का शोध.

Babli ने कहा…

वाह! बहुत सुन्दर एवं शानदार रचना लिखा है आपने! बधाई!

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

aajkal to har koi mohabbat ki degree liye ghoomta hai....bas farq itna hota hai ki wo degrees farzee hoti hain!!!!!

kanu..... ने कहा…

are wah aapne to soch ko nai disha de di mam....

इमरान अंसारी ने कहा…

मुहब्बत में डिग्री.........वंदना जी आप कमाल हैं........बहुत पसंद आई पोस्ट|

Kunwar Kusumesh ने कहा…

मुहब्बत की डिग्रीयों पर कविता,वाह क्या बात है.
नयी approach.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

वाह वाह! बहुत ही सुन्दर रचना...
सादर बधाई...

दिलबाग विर्क ने कहा…

आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
कृपया पधारें
चर्चा मंच-673:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

sm ने कहा…

thoughtful
nice poem

Pallavi ने कहा…

यूं हीं नई मिलती मोहब्बत की डिग्रीयाँ...बहुत खूब वंदना जी .....

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

आखिर कुछ तो हो जिसकी तलाश में जूनून कायम रहे ...
ववाह क्या बात है !

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

प्यार किया नहीं जाता होजाता है ....

संगीता पुरी ने कहा…

वाह ..

क्‍या बात है !!

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

मोहब्बत को कौन परिभाषित कर पाया है वंदना जी .....

पर आपने शोध आरम्भ किया है तो शुभकामनाएं ....

मोहब्बत पर पी एच डी ....बहुत खूब ....:))

वन्दना ने कहा…

sharda ji dwara mail par bheja gaya comment
Vandna ji
bahut koshish ki aapki kavita par ye tippni dene kee , magar error hi
aati rahi ...
"यूँ ही डिग्रियां नहीं मिलतीं मोहब्बत की"
बढ़िया , कवित्री मन का शोध ...बधाई ....
Sharda Arora

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

bahut sundar bhavapoorn abhivyakti..

S.N SHUKLA ने कहा…

समय- समय पर मिले आपके स्नेह, शुभकामनाओं तथा समर्थन का आभारी हूँ.

प्रकाश पर्व( दीपावली ) की आप तथा आप के परिजनों को मंगल कामनाएं.

veerubhai ने कहा…

मंगल मय हो सबको दीपों का त्यौहार ,दीपों का आकाश .आभार इस हलचल के लिए . .शानदार प्रस्तुति .यूं ही डिग्रियां नहीं मिलती मोहब्बत की .

***Punam*** ने कहा…

SHODH KAARY JAAREE HAI....
digree milte mein abhi samay baki hai....