पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 11 दिसंबर 2013

कौन कहता है हँसते हुए चेहरे ग़मज़दा नहीं होते

ज़िन्दगी सिर्फ सीधी सरल पगडण्डी नहीं होती 
वृक्ष की कौन सी ऐसी शाख है जो टेढ़ी नहीं होती 

हर बचपन के हाथ में सिर्फ खिलौने नहीं होते 
कौन कहता है हँसते हुए चेहरे ग़मज़दा नहीं होते 

सिर्फ बड़े होने पर ही कोई बड़ा नहीं होता 
हर शख्स यहाँ हँसता हुआ पैदा नहीं होता 

हर खुरदुरे चेहरे में छुपी सिर्फ इक तलाश नहीं होती 
वक्त की तपिश में कौन सी शय है जो खाक नहीं होती 

हर उड़ती सोन चिरैया में सिर्फ परवाज़ नहीं होती 
कौन सा ऐसा चूल्हा है जिसमे आग नहीं होती 

6 टिप्‍पणियां:

madhu singh ने कहा…

सुन्दर ,बहुत खूब

चेहरे की हंसीं नही बताएगी ,दिल के ज़ख्मों को
आग दिल में लगी है.नकाब से न सकोगे ज़ख्मो को

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (12-12-13) को होशपूर्वक होने का प्रयास (चर्चा मंच : अंक-1459) में "मयंक का कोना" पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Anita ने कहा…

बहुत सुंदर..जिन्दगी टेढ़ी मेढ़ी चलती है...कभी हंसती कभी छलती है

Maheshwari kaneri ने कहा…

बढिया प्रस्तुति-

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सिर्फ बड़े होने पर ही कोई बड़ा नहीं होता
हर शख्स यहाँ हँसता हुआ पैदा नहीं होता

यहाँ तो हर शख्स रोते हुये ही पैदा होता है ..... तुलसीदास जी के बारे में पढ़ा था कि वो हँसते हुये पैदा हुये थे :)

बाकी नज़्म खूबसूरत लगी ।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कितना कुछ छिपा होता है, चेहरे के व्यक्त भावों में।