पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

गुरुवार, 23 सितंबर 2010

क्षितिज पर एक बार फिर................

मैं 
दरिया हूँ 
ना बाँधो 
मुझको 
बहने दो
अपने किनारों से 
लगते - लगते
मत तानो 
बंदिशों के 
बाँध 
मत बाँधो
पंखों की 
परवाज़ को
मत लगाओ 
मेरे आसमानों पर
हवाओं के पहरे 
एक बार
उड़ान 
भरने तो दो
एक बार 
बंदिशें तोड़
बहने तो दो
एक बार
खुले आसमान में 
विचरने तो दो
फिर देखो 
मेरी परवाज़ को
मेरी उडान को
धरती आसमां में
सिमट जाएगी 
आसमां धरती सा
हो जायेगा 
और शायद 
क्षितिज  पर 
एक बार फिर
मिलन हो जायेगा 

20 टिप्‍पणियां:

M VERMA ने कहा…

एक बार
बंदिशें तोड़
बहने तो दो
एहसास बहुत खूबसूरत हैं
बन्दिशे तो तोड़नी ही होगी

रश्मि प्रभा... ने कहा…

phir dekho meri pervaaz ko... bahut hi achhi rachna...

गजेन्द्र सिंह ने कहा…

अच्छी पंक्तिया की रचना की है ........

(क्या अब भी जिन्न - भुत प्रेतों में विश्वास करते है ?)
http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_23.html

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बंदिशों के
बाँध
मत बाँधो
पंखों की
परवाज़ को
मत लगाओ
मेरे आसमानों पर
हवाओं के पहरे
एक बार
उड़ान
भरने तो दो
--
--
पागल झरनों को मत,
संयत बाध तोड़कर बहने दो।
अपने अरमानों को मत,
बहशी दुनिया से कहने दो,
गुल गुलाब की तरह रहो,
और खिलो खूब बगिया में-
कोमल तन पर काँटों की,
कुछ मृदुल चुभन रहने दो।।

संजय भास्कर ने कहा…

कई रंगों को समेटे एक खूबसूरत भाव दर्शाती बढ़िया कविता...बधाई

रानीविशाल ने कहा…

Bahut Sundar baav sanjoye aapne is sundar kavita me

संतोष कुमार ने कहा…

वंदना जी बहुत ही अच्छी कविता !
बधाई !

arun c roy ने कहा…

"खुले आसमान में
विचरने तो दो
फिर देखो
मेरी परवाज़ को
मेरी उडान को
धरती आसमां में
सिमट जाएगी
आसमां धरती सा
हो जायेगा
और शायद
क्षितिज पर
एक बार फिर
मिलन हो जायेगा "... प्रेम और जीवन की कविता... बहुत ही खूबसुरती से कह रही है आप!

Vandana ! ! ! ने कहा…

धरती आसमा में सिमट जायेगी ...... आसमा धरती सा हो जायेगा.... वह बहुत खूब..... मन मोह लिया आपके इस कविता ने.....

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

उडानों की ऊँचाइयों के सामने आसमान, पहाड़ और सागर नतमस्तक हो जायेंगे।

राजभाषा हिंदी ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति। राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।
मशीन अनुवाद का विस्तार!, “राजभाषा हिन्दी” पर रेखा श्रीवास्तव की प्रस्तुति, पधारें

mridula pradhan ने कहा…

bahot khoobsurat,wah.

Vijay Pratap Singh Rajput ने कहा…

बहुत ही अच्छी कविता

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

just wow

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

Haan Hhai! aaj Vandana ji ko dariya bn jane do' jaise "Ganga" bn gayi thi "Ganga Saagar". Usi prakar Vandana ji ab ho jayengi "Vandniya"........aur yahi to hamari kaamna hai, Shubh kamna hai----

गंगा एक नदी है
जो निकलती है गोमुख
गंगोत्री से और
आकर नीचे हिमालय से
हरिद्वार - प्रयाग - काशी होते हुए
ऋषि - मुनियों के कुटीरों का
स्पर्श - संश्पर्शन करते हुए ..
जा मिलती है - सागर से.
और बन जाती है - "गंगा सागर".

Kusum Thakur ने कहा…

धारा प्रवाह अभिव्यक्ति के लिए बधाई !!

वाणी गीत ने कहा…

मत रोको ...
उड़ने दो इन्हें ...पंछी- सा
बहने दो ...नदिया- सी
मैंने भी लिखा था कुछ ऐसा ही ..संवेदनशील स्त्रियों की प्रतिक्रियां एक जैसी ही होती हैं ...!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर ..उड़ान की अभिलाषा ..बंदिशों को तोडने की ख्वाहिश ..सुन्दर शब्दों में बाँधी है ...

दीप्ति शर्मा ने कहा…

बहुत खूब
सुन्दर एहसास

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

बहुत खूब...सुंदर रचना...बधाई