पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

सोमवार, 27 सितंबर 2010

या खुदा ...........

या खुदा ,

तू दिल बनाता क्यूँ है
दिल दिया तो
इश्क जगाता क्यूँ है

प्रेम के सब्जबाग

दिखाता क्यूँ है
जब मिलाना ही ना था
तो अहसास
जगाता क्यूँ है

इश्क कराया तो

इश्क को रुसवा
कराता क्यूँ है

 

 

 

 

17 टिप्‍पणियां:

संजय भास्कर ने कहा…

Beautiful as always.
It is pleasure reading your poems.

संजय भास्कर ने कहा…

वाह!!!वाह!!! क्या कहने, बेहद उम्दा

ajit gupta ने कहा…

खुदा ने दिल रक्‍त संवहन के लिए दिया था कि शुद्ध रक्‍त और अशुद्ध रक्‍त का यही एक मार्ग होगा लेकिन हमने उसे भावनाओं से जोड़ लिया। अब बेचारा खुदा शरीर का ध्‍यान रखे या मन का? हा हा हा हा। आदमी ने तो भारी घालमेल कर दी है। मजाक कर रही हूँ, अच्‍छी अभिव्‍यक्ति है, बधाई।

रश्मि प्रभा... ने कहा…

khuda khud roya hai ishq me padke to hamen bhi ye khel dikhata hai, ishq jagata hai

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

".........क्यूँ है?"
--
ताकि दिल, इश्क और प्रेम के विभिन्न रूपों के दिग्दर्शन हो सकें!

Shekhar Suman ने कहा…

yeh jeewan hai, is jeewan ka yahi hai, yahi hai, yahi hai rang roop....

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

इश्क कराया तोइश्क को रुसवा
कराता क्यूँ है एक अहम् सवाल खूबसूरत रचना पसंद आई शुर्किया

veerubhai ने कहा…

ehsaas se hi, ehsas me hi, aadmi zindaa hai ,hakeekat main to kab kaa mar chukaa hai .
ehsaas kisi kaa bhi kar lo yahi to sifat hai ,fitrat hai insaani .
veerubhai

आशीष मिश्रा ने कहा…

bahot hi achchha likha hai apne......thanx

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

क्या भाव हैं।

अजय कुमार ने कहा…

बहुत सुंदर भाव ,दिल से दिल तक ।

monali ने कहा…

Shayad ye Bhagwaan ka tareeka hai khud ko entertain karne ka...

arun c roy ने कहा…

"जब मिलाना ही ना था
तो अहसास
जगाता क्यूँ है"....अच्‍छी अभिव्‍यक्ति !

Kusum Thakur ने कहा…

वाह वाह ...बहुत खूब ....लाज़वाब !!

दीप्ति शर्मा ने कहा…

दिल छूने वाली कविता

मुझे भी अक्सर यही लगता है की आखिर ऐसा क्यों होता है

शरद कोकास ने कहा…

बिलकुल जायज़ शिकयत है यह ।

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

sahi kaha ji