पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 21 मई 2011

बताओ ना क्या कहती हो तुम मुझसे…………300 वीं पोस्ट

हाँ......
कहो.............
क्या कहा...........
समझ नहीं आ रहा
कुछ स्पष्ट कहो ना
तुम्हारे शब्द अस्पष्ट हैं
अस्पष्ट शब्दों के अर्थ
अनर्थ को जन्म देते हैं
कुछ कहती तो हो
मगर समझ नहीं पाती
कब से कह रही हो
कब तक कहती रहोगी
और मैं तुम्हें सुनती हूँ
मगर समझ नहीं आती हो
कैसी पहेलियाँ सी बुझाती हो
कभी सब कह जाती हो
कभी सिर्फ कानों में मंत्र सा
फूंक जाती हो
मगर उस मंत्र के
उच्चारण में होने वाली अशुद्धि
फिर वहीँ ले आती है
जहाँ से चलती हूँ
कहो कैसे जानूं तुम्हें
कैसे तुम्हारी अनकही समझूं
कौन सी चेतना जगाऊँ
जो तुम्हारे अनकहे शब्दों को
साकार कर दे
ना जाने क्या चाहती हो
जब कहती हूँ
आओ गले लगा लूँ तुम्हें
तो दूर छिटक जाती हो
और जब तुम से भागती हूँ
तो करीब चली आती हो
कितने ही प्रलोभन दिखाती हो
अपनेपन का आभास कराती हो
मगर जैसे ही तुम्हारी तरफ
कदम बढाती हूँ .......तुम फिर
ना जाने किस मोड़ पर
मुड जाती हो
और मैं फिर एक
गुबार में खो जाती हूँ
और अपना अक्स भी
धुंधलाने लगता है
मगर तुमको ना
पकड़ पाती हूँ
और ना ही
समझ पाती हूँ
आखिर तुम मुझसे
चाहती क्या हो
हाँ .........तुम्हारी ही
बात कर रही हूँ
क्यूँकि तुम हो
तो मेरा अस्तित्व है
और तुम नहीं
तो मेरा वजूद
मेरी रूह
का कहीं कोई
मोल नहीं
बताओ ना
क्या कहती हो
तुम मुझसे
ए मेरी ज़िन्दगी ?

40 टिप्‍पणियां:

रश्मि प्रभा... ने कहा…

ye zindagi bhi kya kya naye rang dikhaati hai....

Kailash C Sharma ने कहा…

सच में ज़िंदगी को समझना बहुत मुश्किल है..

मनोज कुमार ने कहा…

ज़िन्दगी से प्रश्न उतार ज़िन्दगी का।
बधाई ३००वीं पोस्ट की।

इमरान अंसारी ने कहा…

आंकड़ो की बधाई..........सुन्दर पोस्ट|

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा आपने.
300 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाई.

सादर

Anita ने कहा…

जिंदगी नित नए रूपों में हमसे मिलने आती है, कुछ समझाती है पर अक्सर हम समझ ही नहीं पाते...सुंदर पोस्ट !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत खूबसूरती से ज़िंदगी की बात ज़िंदगी से कर दी ..३०० वीं पोस्ट की बधाई

सदा ने कहा…

बताओ न ... बिल्‍कुल सच कहा है आपने

जिन्‍दगी के इतने रंग हैं

इन्‍हें समझना इतना आसान कहा ....

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

मदन शर्मा ने कहा…

सुंदर कविता के लिये बधाई !

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत रचना, आपकी लेखनी बहुत कम लफ्जों में बहुत बड़ी बात कह जाती है|
...300 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाई

Dr.J.P.Tiwari ने कहा…

जीवन की कहानी अनोखी, सरतम से सरल और गूध्तम से गूढ़. कभी अमृत सा, कभी विष सा. जो संभले और संभाल लिए वे तर गए. यहाँ कुशल तैराक डूब जाते हैं और अनादि तर जातें.. यही है इसका आकर्षण जो सदियों से चर्चा परिचर्चा की वस्तु बना हुआ है आज भी है और तब तक रहेगा जब तक संवेदी जीवन रहेगा. सरलता ही तो इसकी जटिलता है. गुह्य होते हुए भी कितना सरस, कितना सरल, कि सभी जीना चाहते हैं, जो परेशान है वो भी. जो लाचार है वो भी......इस द्वंद्व को उकेरती एक सार्थक रचना.....आभार....

akhtar khan akela ने कहा…

330vin post kel iyen bdhaai ....or is naa smjhne ke andaaz wali post ne to bs nyaa pan hi laadiyaa bdhaai ho. akhtar khan akela kota rajsthan

नीरज गोस्वामी ने कहा…

वंदना जी आपकी लेखनी यूँ ही अविराम चलती रहे और हमें एक से बढ़ कर एक संवेदनशील रचनाएँ लगातार पढने को मिलती रहें...तीन सौ वीं पोस्ट की बधाई...

नीरज

कुश्वंश ने कहा…

खूबसूरती ज़िंदगी से बात, ३०० वीं पोस्ट की बधाई

Minakshi Pant ने कहा…

जिसका कोई अस्तित्व ही न हो उसे पकड़ पाना बहुत कठिन है दोस्त |
सुन्दर रचना |

PK Sharma ने कहा…

thik kaha dost aapne

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति!
--
300वीं पोस्ट की बधाई!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत बहुत बधाई। जीवन को स्पष्ट करने में वर्षों निकल जाते हैं।

Rachana ने कहा…

बात कर रही हूँ
क्यूँकि तुम हो
तो मेरा अस्तित्व है
और तुम नहीं
तो मेरा वजूद
मेरी रूह
का कहीं कोई
मोल नहीं
बताओ ना
क्या कहती हो
तुम मुझसे
ए मेरी ज़िन्दगी ?
sahi likha hai aapne jeevan hai hi kuchh aesa bahut kuchh kahata pr samajh me kukchh kam aata hai aur jab tak samajhte hai tab tak................

badhai
rachana

Rachana ने कहा…

क्यूँकि तुम हो
तो मेरा अस्तित्व है
और तुम नहीं
तो मेरा वजूद
मेरी रूह
का कहीं कोई
मोल नहीं
बताओ ना
क्या कहती हो
तुम मुझसे
ए मेरी ज़िन्दगी ?
jeevan aesa hi hai bahut kuchh samajh nahi aata hai jab tak samajh aata hai .........
samvednaon se bhari kavita
rachana

M VERMA ने कहा…

300वीं पोस्ट की हार्दिक बधाई

रूह के मोल भी रूहानी ही होंगे.

Dr Varsha Singh ने कहा…

मेरी रूह
का कहीं कोई
मोल नहीं
बताओ ना
क्या कहती हो
तुम मुझसे
ए मेरी ज़िन्दगी ?

बेहतरीन रचना।
300 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाई.

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

कई सारे ब्लॉग...हर ब्लॉग पर नियमित लेखन... और आज तीन सौवीं पोस्ट....शुभकामनाएं.. तीन सौ बार... बेहद संवेदनशील कविता है या... खूबुरत हर बार की तरह...

अविनाश मिश्र ने कहा…

बताओ ना
क्या कहती हो
तुम मुझसे
ए मेरी ज़िन्दगी ?
vastav me is choti si zindgi me is zindgi ko samajh pana bahut muskil hai... baut umda abhivyakti badhai

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

३००वीं पोस्ट की बधाई !

सुन्दर रचना है ... जिंदगी के शब्द अक्सर अस्पष्ट ही हुआ करते हैं ... समझना मुश्किल होता है !

विजय रंजन ने कहा…

300th post ke liye badhayee...yatra aapki ati utaam rahi...saare rang zindgi ke dekh liye hamne aapki kavitaon ke madhyam se...sadhuvaad.

राजेश उत्‍साही ने कहा…

हमारा सवाल भी तो यही है आपसे।
*
बधाई।

आशा ने कहा…

जिंदगी इतनी सरल नहीं होती जैसी दिखती है |अच्छी पोस्ट | बधाई |३०० वी पोस्ट के लिए बहुत बहुत बधाई |
आशा

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

स्वयं की जिन्दगी से किये गये इस सवाल के द्वारा आपने पाठकों के अन्तर्मन को भी यही सवाल दे दिया है ।

300 वीं पोस्ट के दुरुह लक्ष्य तक पहुँचने की बधाई सहित...

Brijendra Singh... (बिरजू, برجو) ने कहा…

ज़िन्दगी को समझने मई ज़िंदगी निकल जाती है..
आशा है जल्द ही ये ३०० पोस्ट ३००० हो जाएँ.. बधाई :)

Kunwar Kusumesh ने कहा…

300वीं पोस्ट की बधाई वंदना जी,बढ़िया लेखन.
शुभकामनाएं.

नूतन .. ने कहा…

बिल्‍कुल सच कहा है आपने ।

somali ने कहा…

sach jindagi ko samajhna asan nahin

रजनी मल्होत्रा नैय्यर ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

नश्तरे एहसास ......... ने कहा…

ज़िन्दगी के इतने रंग होते हैं पता नहीं कब कौन सा रंग दिखा दे....
पर आपकी ये रचना ज़िन्दगी से ही कुछ कह गयी....बहुत पसंद आई :) :)

नश्तरे एहसास ......... ने कहा…

आपकी सुंदर पोस्ट सुंदर आंकड़ों के साथ और भी अच्छी लग रही है....हमने आपको फौलो कर लिया है!!

anupama's sukrity ! ने कहा…

Zindagi ko samajhane ki koshish karti hui bahut sunder rachna ...BAHUT SUNDER ABHIVYAKTI ...!!
300th post ke liye badhai ..!!

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

sundar bhav hain .kavita badhiya lagi...

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

sath hi 300 vi post par shubhakamanayen or badhai ...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सच हैज़ीवन समझना आसान नही .. ३०० पोस्ट की बधाई ...