पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 5 मई 2010

नारी या भोग्या ?

नारी 
तुम्हारा 
अस्तित्व 
क्या है?
हर युग में
जन -जन के 
अंतस में व्याप्त 
तुम्हारी भोग्या
की छवि  से 
कब मुक्त
हो पाई हो
हर युग में ही
कुचली गयीं
मसली गयीं
तोड़ी गयीं
फेंकी गयीं
कब तुम्हारे 
अस्तित्व को 
स्वीकारा गया 
कब देह से पार 
तुम्हारे अस्तित्व
को जाना गया
तप भंग करना हो
या अग्निपरीक्षा देनी हो
तुम्हें ही बलि वेदी पर
चढ़ाया गया
देवी हो या माँ
हर रूप में 
तुम्हारी अस्मिता का
ही होम किया गया
तुम्हें ही छला गया 
हर युग में
तुम्हारे ' भोग्या ' शब्द 
को ही सार्थक किया गया
प्रदर्शन की विषय- वस्तु
बनाया गया आज भी 
आज भी तुम
पुरुष की सोच की
मात्र कठपुतली हो
कब तुममें माँ ,बेटी 
बहन , पत्नी की
छवि को निहारा गया
सिर्फ स्वार्थों की 
पूर्ति के लिए ही
इन उपनामों से
नवाज़ा गया 
नारी देह से तो 
मुक्त हो भी जाओगी
पर पुरुष की सोच से
भोग्या की तस्वीर 
ना हटा पाओगी
नारी तुम किसी 
भी युग में
'भोग्या' के दंश से 
ना बच पाओगी
अपने अस्तित्व को
काम-पिपासुओं के
चंगुल से ना 
बचा पाओगी
इनकी विकृत
मानसिकता से 
ना मुक्त हो पाओगी
फिर कैसे अपने 
अस्तित्व को
जान पाओगी?
नारी तुम 
कब नारी 
बन पाओगी?

55 टिप्‍पणियां:

इस्लाम की दुनिया ने कहा…

महान पोस्ट
कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारें और मुझे कृतार्थ करें

LIMTY KHARE लिमटी खरे ने कहा…

नारी तुम नारी कब बन पाओगी बहुत ही बढिया वन्‍दना जी, सच है आज नारी नारी नहीं रह गई है, आपने जो बात की है, वह अबला के साथ ठीक बैठती है, पर आज नारी का जो स्‍वरूप सामने आ रहा है, उसमें इस तरह की बातें शायद उभरकर सामने नहीं आ पा रहीं है, वैसे बहुत सुन्‍दर रचना बधाई

Gourav Agrawal ने कहा…

kavita adbhud hai :)

lekin pata nahi kyon ek tarfa si lag rahi hai :)

main sahmat nahi ho paa raha hoon

Mithilesh dubey ने कहा…

मुझे आज तक ये बात समझ नहीं आयी कि ऐसा महिलाएं क्यों कहती हैं कि उन्हे भोगा जाता है , जैसा आपने लिखा है अगर इसको देखा जाये तो भोग तो पुरुषो का भी होता है तो हर बार महिलाएं इसकी दुहाई क्यों देती हैं ?

वन्दना ने कहा…

गौरव जी और मिथिलेश
क्या ऐसा नहीं है ...............आज भी नारी को भोग्या नहीं माना जा रहा ...........कुछ बदला है क्या ............सिर्फ प्रस्तुत करने का तरीका बदला है वरना देखिये ना विज्ञापन पुरुष से सम्बंधित चीज़ का होगा और नज़र नारी ही आएगी या कहो नारी देह ही आएगी इसे क्या कहेंगे आप ?

Gourav Agrawal ने कहा…

behtareen post hai :)

thodi si kavita meri or se :

jab tak purush anusran ke prayaas rahenge jaari

apni image se shayad hee bahar aa payegi naari

Gourav Agrawal ने कहा…

agar naari shohrat paane ka shortcut isi tarah doondhna chaahe to bhee sara ilzaam purush par ??

aisa kyon hota hai ??

Indiara gandhi naari mukti aur vikas ka prateek hai par rakhi savant nahi

sahi keh raha hoon na main ??

honesty project democracy ने कहा…

नारी का हर रूप महान है ,अब कोई दिमाग से बीमार उसे बाजारू बना दे और अपने तुच्छ स्वार्थ के लिए इस्तेमाल करे तो ,उस व्यक्ति का तो इलाज ही किया जा सकता है / इनता हताश मत होइए, नारी के सम्मान की पूरी रक्षा करने वाले लोग अभी मरे नहीं हैं /

वन्दना ने कहा…

kya purush se aage nikalne ka prayas nari ka gunah hai?
kya apne astitva ko pahchan dena nari ka gunah hai?
vaise nari ko short cut dikhane wala bhi purush hi hai.

Gourav Agrawal ने कहा…

naari agar apne prakratik niyamon par chale to prakriti svayam uski raksha karti hai (bure logon se )

use kisi rakshak ki jaroorat nahi hai

Gargi, Madalsa, Laxmi Bai, Indira gandhi ......

inhone khud apni raksha ki hi thee

main phir se kehta hoon :

Indiara gandhi naari mukti aur vikas ka prateek hai par rakhi savant nahi

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

@ gourav ji yek tarfa do tarfa ki baat mujhe samjh nahi aati ,,, par ye to aap ko maana hi padega ki hamara smaaj purush prdhaan hai ,,, aur naariyo ko unke ve adhikaar nahi mil paate jo unhe milne chiye ,, mai ye nahi kahta ki koi purush naari ko uske adhikaaro se vachit karta hai ,,,, hamaari samaajik sarchna me jo madhy yug me parivaratn aaya vo uske liye jimmedaar hai ,,,,, aur naari sthiti me sudhaar tab tak nahi ho paa ye ga jab tak is sanrachna me parivartan nahi aayega nahi to naari sthti sudhaar ke naam par unka kisi na kis roop me shoshan hota hi rahega
sadar
praveen pathik
9971969084

Gourav Agrawal ने कहा…

@वन्दना : to aap ye manti hai ki naari ke paas vivek shakti ya mastishk naam ki cheej nahi hai , tabhee to vo kisi bhee raste par chal deti hai.

main aisa nahi manta

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

@mithlesh ji mai aap ki baat se sahmat hun ki bhoga dono ko jaata hai magar bhogne ka ahsaas keval mahilaao ko hi karaya jaata hai purusho ko nahi,, ye hamari samaajik sanrachna ki kami ki vajah se hai ,, jaise dekho jab kisi mahila ke saath koi kuchh galat karta hai to heen mahila ko hi samjha jata hai purush saaf vach niklta hai ,, ab agar samaaj yaisa karta hai ,,, to mahilaaye apni baat kun na uthaaye
saadar
praveen pathik
9971969084

वन्दना ने कहा…

nari to har yug mein chali gayi hai aur aaj bhi chali ja rahi hai.........aap kyunn nhi mante ........dekhiye na taza udaharan nirupama ka ........aaj wo mari ja chuki magar wo jiska wo kritya tha wo khula ghoom raha hai aur uske bare mein kisiko kuch nahi pata ya pata hai to sab chup use dosh nahi dega ye samaj sirf nari hi doshi kahlayegi kyunki yahi to mansikata hai ki nari ko hi sochna chahiye tha ........main kahti hun ki iske sath purush utna hi doshi nahi tha ?magar nahi aap jaise log to yahi kahenge ki wo khud samajhdar thi ..........hai na.magar galat kaam mein to dono bhagidar the to saja sirf ek ko kyun?kya usne use bhog kar marne ke liye nahi chod diya?

Mithilesh dubey ने कहा…

वन्दना जी नारी ना तो पहले भोगने वाली वस्तु थी और ना ही आज है , हाँ ये हैं कि कुछ अविचारी लोग ऐसा समझते हैं , रही बात जहाँ तक भोग्य की तो वह तो पुरुष भी है ।

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

@ GAURAV YE KYA HAI
naari agar apne prakratik niyamon par chale to prakriti svayam uski raksha karti hai (bure logon se )
MITR KUN SE VO PRAKRTIK NIYAM HAI JIN PAR NAARI KO CHALNA CHIYE MAI ABHI TAK NAHI SAMJH PAA RAHA HUN KYA UNHE KISI KI GULAAMI KO SWKAAR KAR LENA CHIYE AUR USE HI APNI NIYAT BANA LENI CHIYE YAHI PAKRTIK NIYAM HAI ..........AAKHIR HAMARA SAMAAJ APNE KARTAVY KUN NAHI SAMJHTA AUR NAARI KO UNKE ADHIKAARO KO DENE SE KUN BACHTA HAI AUR KARTVYA AUR PARKTIK NIYMO KI BAAT APNE LIYE KUN NAHI KARTA ,,,,,,,,,,,
AB RAHI INDRA GANDHI AUR RAAKHI SAWANT KI BAAT TO MAANTA HUN DONO KI APNI PARISTHITIYA HAI AUR DONO HI KISI NAARI KI ROLE MODEL BANNE KE KAAVIL NAHI HAI HAR NAARI KO APNA ROLE MODEL KHUD VANNA CHIYE ,,,,,,,
KYA HUM KISI PURUSH KO BHAGVAAN RAAM JAISA PURUSHOTTAM BANNE KE LIYE KAHTE HAI YA FIR KOI VAISA BANNE KA PRYASH KARTA HAI ,,,,,,,,
YE SAB BAATE BEMAANI HAI AUR APNE KARTAVYO SE BACHNE KA TRAIKA HAI
SAADAR
PRAVEEN PATHIK
9971969084

Gourav Agrawal ने कहा…

@प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) : main manta hoon anyaay hota aa raha hai , lekin anyaay to purush par bhee to hota hai

Dosh sirf videshi jeevan shaili ka hai , varna pehle bharat ki samridhhi ke aage har desh sheesh jhukata tha.

bharat abhee vikassheel hai ..

pehle viksit tha ...

aur bhavishya me .......raam jane kya hoga ??


एक कहानी मेरी ओर से (हर मुहल्ले की)..

एक लडके कि शादी हुयी थी. पत्नी हर रोज अपनी माँ के हालचाल पूछ अपने आप को आदर्श पुत्री सिद्ध करती (यह कदम उठाने के पीछे उसकी अनजान नयी दुनिया मै होने वाली घबराहट थी). सास से बिल्कुल नही बनती थी. रोज झगड़ों तंग आकर लड़के ने अलग घर ले लिया . और साबित किया कि बेटे माता-पिता का बेहतर ख्याल नही करते जबकि उसके कदम उठाने पीछे उसकी (लड़के की) पत्नी और सासू माँ खुशी होगी . मेरी नजरों में लड़के ने उन्ही संस्कारों का पालन किया जिनका लड़की ने नही .


महिला उत्पीड़न मामलों में महिला समाज भी उतना ही अधिक (बल्कि ज्यादा) भागीदार होता है .

रावण को सीता अपहरण हेतु उकसाने में बहन शूर्पनखा का उतना ही अधिक योगदान था. जितना कि रावण कि पत्नी, और एक राक्षसी का सीता को धीरज बंधाने में.


ab to aap meri baat se aap sehmat honge ???



main naari virodhi nahi hoon

main "naari abla hai" vichaar dhara ka virodhi hoon

varna "nice post" ya "great post"
likhkar chala na jaata ??

पी.सी.गोदियाल ने कहा…

चलिए बहस छोड़िये, ये कहिये कि कविता बढ़िया है !

infinitive ने कहा…

aapki rachna bahut sundar hai ji,dil ko ko chhukar aankho may bas gaya ji.nari k kai roop hotay hai ji sristi ki rachna wahi karti hai.lekin samay or paristhiti nay bhogya bana diya hai.jisay her aadmi her tarah bhogna chahta hai

Gourav Agrawal ने कहा…

mujhe lagta hai sirf ham do hi log (Gourav Agrawal, Mithilesh dubey) yahaan naari ke naam par rakshak bane huye hai.

aap sab to naari ko abla sidhh karne par tule huye ho

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

vandna ji mai aap ki baat se sat prtishat sahmat hun

रश्मि प्रभा... ने कहा…

naree ka roop hamesha sashakt raha hai, per uski shakti se pare use bhogya hi mana gaya hai...samaj kee yahi vyavastha rahi......
aur aaj kee sabla naree to barabree me hai, per sthiti lagbhag wahi hai...bahut prabhawshali rachna

वन्दना ने कहा…

rashmi ji
shukriya samajhne ka........kitni satik baat kahi hai aapne aur wo hi kahne ka prayas kiya hai maine bhi.

sangeeta swarup ने कहा…

नारी को अपने अस्तित्व कि खुद तलाश करनी है ...जब तक वो स्वयं को नहीं पहचानेगी तब तक भोग्य ही बनी रहेगी...और पुरुष इस बदलाव को कभी भी स्वीकार नहीं कर पाता कि नारी को आसानी से उसका अधिकार दे ...जिस दिन नारी ने अपनी सच्ची शक्ति दिखा दी उस दिन पुरुष अचंभित सा रह जायेगा....

नारी क्यों कि सहनशक्ति कि खान है....ममत्व कूट कूट कर भरा है...इसी लिए वो सारा जीवन हर एक से छली जाती है....पिता से भई से, पति से और बाद में बेटों से भी....

वैसे नारी को अबला का नाम भी पुरुष ही देता है....
मैथली शरण गुप्त ने भी नारी को अबला ही कहा...

अबला जीवन है
है तुम्हारी
यही कहानी
आँचल में है दूध
और आँखों में पानी....

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

@gaurav mitr hatyare ko hatyara apraadhi ko apraadhi aur shoshak ko shoshak aur shoshit ko shoshit kahne se aap kun bachna chahte hai ,,,,,,,, agar naari shoshan hota hai aur purush ke dwara hota hai to aap aur hum dono ko ye swikaar karna hoga ki yaisa hota hai ,,,,,ab mai apni baat jodna chahunga ki naari shoshan me purush aur naari done me se koi jimmedaar nahi hai jimmedara hai to hamari madhyyugin vyasthyae samaajik sanrachnaye ,,,,, hum purush aur naari ke naam par hi ladte rahte hai aur aapash me yek doosre ko gaali dete rahte hai magar samaajik sanrachnao me parivartan ki oor dhyaan nahi dete
,,, ab rahi paschimi karan ki baat aur vedishi sabhyta ke apnaane ki baat tohamare samaaj me naariyo ki itni dayniy dasha hai aur hum unke liye kuchh kar nahi sakte ,, aur karan to door un par anyaay ho raha hai ye bhi swikaar nahi karte to fir naari agar paschimi oor jaati hai to use galat kun khud ko galat kun nahi kahte
saadar
praveen pathik
9971969084

रचना ने कहा…

ek sachhi kavita ki badhaaii

अरुणेश मिश्र ने कहा…

नारी अनन्त की कथा इसे इतिहास सिद्ध करने आया ।
नारी अन्तर की व्यथा
इसे पुरुषत्व बिद्ध करने आया ।

राकेश कौशिक ने कहा…

स्तिथि इतनी दयनीय नहीं है और "भोग्या" शब्द के प्रयोग से कतई सहमत नहीं हूँ - अपवाद तो हर जगह होते हैं लेकिन हम खुद सही हैं तो कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता - विषय वस्तु को परे रखकर अगर कविता की बात करें तो आपकी रचनाओं का स्तर जो मेरे दिमाग में है ये उससे हल्के स्तर की रचना है

प्रवीण शुक्ल (प्रार्थी) ने कहा…

नारी करुणा की मूरत ,,,नारी जीवन की धुरी है ,,,,
बांहों में विस्तार अनन्त लिए ,,, नारी स्रष्टि पूरी है ,,,,

रजनीश के झा (Rajneesh K Jha) ने कहा…

हरि अनंत, हरि कथा अनंता, नारी सर्वशक्तिशाली है,
रही बात भोग्या की तो नारी या पुरुष दोनों भोग्या बनते हैं,

सिक्के के एक पहलु को दर्शाती कविता !

वाणी गीत ने कहा…

अपने अस्तित्व को काम- पिपासुओं से नहीं बचा पाओगी तब तक भोग्या ही कहलाओगी ...
बहुत सही ...मगर मैं मानती हूँ कि स्त्री को माँ , बहन और बेटी और वो जैसी है उसी रूप में सचमुच का सम्मान देने वाले मुट्ठी भर लोग भी कम नहीं ...
बहुत अच्छी कविता ...!!

sangeeta swarup ने कहा…

वंदना जी,


बहुत कुछ लिख गयी...कुछ मात्राओं की गलतियाँ भी हो गयीं....
आपकी ये रचना नारी हृदय के अंतस से निकली रचना है....ऐसी रचना के लिए आपको साधुवाद

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

नारी खुद को कमजोर नहीं समझेगी तो आगे बढ़ पाएगी ..अच्छी लगी आपकी यह रचना ..

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

वंदना जी ... कविता बहुत अच्छी है ... आपके दिल से निकली है ... अंतस की पुकार है ... इसलिए शायद भावनाओं में काफी जोर है ... इतना जोर है कि हजम करना मुश्किल हो रहा है ... गलत मत समझियेगा .. मैं ये नहीं कह रहा हूँ कि आपकी सोच गलत है ... पर नारी को समाज में एक भोग्या की तरह अगर रहना पढ़ा है तो इसमें गलती पुरुष समाज कि भी है (७०%) और नारी की खुद की गलती भी है (३०%). केवल पुरुषों को दोष देने से मामला सुलझने वाला नहीं है ... आपने बहुत सारे उदहारण दिए हैं ... एक सवाल है ... किसी भी घर को उठाकर देख लीजिए... सबसे ज्यादा झगडा, मन-मुटाव, तू-तू-मैं-मैं अगर होती है तो वो सास और बहु के बीच में ... दो नारी एक ही घर में रहकर अगर अच्छे सम्बन्ध नहीं बना सकती है, तो इस बात का फायदा तो पुरुष समाज उठाएगा ही ... अगर सरसों में ही भूत हो तो भूत भगाने के लिए सरसों का उपयोग कैसे कर सकते हैं ? मई मानता हूँ की हमेशा से नारी को एक भोग्या की दृष्टि से देखा गया है ... पर इस बात के लिए कुछ हद तक नारी खुद ज़िम्मेदार है ... ज़रूरत इस बात की है की पुरुष अपनी सोच बदले ... ज़रूरत इस बात की भी है कि नारी खुद अपनी सोच बदले ...

वन्दना ने कहा…

Indranil Bhattacharjee ji
aapka kehna bhi sahi hai aur main bhi yahi kah rahi hun ki nari ko purush mansikata ko badalna hoga kyunki purush mein bhi bachpan se sanskar wo hi dalti hai aur apni mansikata ko bhi tabhi to aage badh payegi aur apna astitv jan payegi..........aaj nari ko samman dene wale sirf kuch gine chune purush hi milenge magar hamein to ismein hi kranti lani hai dono ki hi soch badalni hai tabhi to uski bhogya ki tasveer mein badlaav aayega.use abla se sabla banne ke liye samaj ko disha deni hogi.......aur ye kaam usse achcha kaun kar sakta hai magar purush mansikata jo ban gayi hai usmein bhi badlaav aise hi aata hai.

'अदा' ने कहा…

रचना अच्छी लगी आपकी वंदना जी...
सिर्फ 'भोग्या' शब्द थप्पड़ की तरह लग रहा है ...
इसमें कोई शक नहीं नारी की स्तिथि दैनीय हैं...लेकिन मौसम बदल रहा है और दिनों दिन नारी सशक्त भी होती जा रही है....बस हम अगर अपने आत्मसम्मान को जीवित रखें तो वो दिन दूर नहीं हमारा समाज बदल जाएगा....
आपका आभार...

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

विचारोत्तेजक पोस्ट, सोचने पर मजबूर कर दिया।

Pratik Maheshwari ने कहा…

बात तो सही कही आपने पर फिर भी एक तरफ़ा ही लग रही है.. ऐसे लोग भी मौजूद हैं जिन्होंने नारी को उतना ही सम्मान दिया है जितना अपने खुदा को.. और अब ज़माना भी बदल रहा है.. मानता हूँ कि यह काफी धीमे हो रहा है.. पर अब समय और सोच दोनों में परिवर्तन आ रहा है.. आशा करता हूँ कि नारी मात्र भोग्या के रूप में नहीं देखी जाएगी..

पर आपकी रचना जो दर्शाना चाहती थी काफी सही तरीके से दर्शा गयी..
आभार

M VERMA ने कहा…

नारी तुम
कब नारी
बन पाओगी?
रचना अत्यंत सुन्दर है
नारी को नारी बने रहने की जद्दोजहद होनी चाहिये. पुरूष वर्चस्व का प्रतिकार भी आवश्यक है. स्थिति आज भी विषम है नारी के लिये (कमोबेश महानगरों में भी जहाँ यह विकृति और गहराती सी लगती है पर आवरण कुछ और दिखता है).
रही बात भोग्या की तो यह भी आज के हालात में यथावत है. स्वरूप बदलकर यथारूप हालात सामने है. भोग यदि पारस्परिक है तो दोनों भोग्या हैं. पर शायद ऐसा है नहीं.

Shekhar Kumawat ने कहा…

waqy me behad khub

sari nariyon ke dil ko chun liya aaj aap be fir se

रचना ने कहा…

वंदना ने जो कहा हैं उसका सीधा और सरल अर्थ हैं नारी को अपनी शक्तियों को पहचान कर अपने शरीर से ऊपर उठाना चाहिये ताकि जो "भोग्या " कि छवि पुरुष के दिमाग मे नारी को ले कर बैठी हैं वो धूमिल हो । नारी केवल शरीर नहीं हैं और नारी केवल पुरुष को खुश करने कि वस्तु नहीं हैं

दिलीप ने कहा…

bahut hi saamyik kavita hai...roz kuch na kuch sunne ko khabar milti hai...ki ladkiyon se durvyavahar ki ghatnayein badhti jaa rahi hai...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

रचना करती, पाठ-पढ़ाती,
आदि-शक्ति ही नारी है।
फिर क्यों अबला बनी हुई हो,
क्या ऐसी लाचारी है।।
प्रश्न-चिह्न हैं बहुत,
इन्हें अब शीघ्र हटाना होगा।
खोये हुए निज अस्तित्वों को,
भूतल पर लाना होगा।।

महफूज़ अली ने कहा…

बाप रे बाप.... यहाँ बहस चल रही है...रचना अच्छी लगी....

शरद कोकास ने कहा…

बहुत कुछ कह दिया आपने इसमे ।

sangeeta swarup ने कहा…

इस रचना को पुन: पढने का मन हुआ...कितने सीधे शब्दों में रचनाकार ने नारी को आह्वाहन किया है कि नारी कब तुम अपने अस्तित्व को समझोगी? कब स्वयं का मान रखोगी? जब तक तुम स्वयं को नहीं पहचानोगी तब तक लोग तुमको सम्मान की दृष्टि से नहीं देखेंगे.....


पर यहाँ प्रस्तुत टिप्पणियों से लगा कि इतनी सीधी बात को भी पुरुष और नारी वर्ग में बाँट दिया गया है...खैर अपनी अपनी सोच है....
मुझे तो इस रचना में नारी को जागरूक करने का एक सन्देश दिखा है...

Dr. shyam gupta ने कहा…

हां बस यही कहिये---कविता अच्छी है---बाकी सब तो घिसी -पिटी बात है। मिथिलेश ने सही कहा--भोग तो वास्तव में पुरुष का ही होता है।
----नारी तुम नारी जब बन पाओगी --जब नाम के आगे श्रीमती लिखना बन्द कर पाओगी।
----अपना अलग अस्तित्व क्यों नहीण रख पाती नारी आज भी ???????

rashmi ravija ने कहा…

नारी तुम
कब नारी
बन पाओगी?
बस इस सवाल का जबाब ही मुश्किल है..उसे देवी दासी...सब बनायेंगे..हज़ार रिश्ते में बंधेंगे परसिर्फ 'नारी' नहीं रहने देंगे .बहुत सुन्दर रचना

संजय ग्रोवर Sanjay Grover ने कहा…

वंदना जी, अच्छा लगा कि आपकी कविता से कुछ प्रश्न खड़े हुए और उनपर चर्चा छिड़ी। ऐसे ही या मिलते-जुलते मसलों पर दूसरी जगहों पर भी चर्चाएं चलती हैं, चल रही हैं। दो के लिंक दे रहा हूं:

1.पुरूष की मुट्ठी में बंद है नारी-मुक्ति की उक्ति-1

http://samwaadghar.blogspot.com/2010/05/1.html

2.एक निडर लड़की का समाज के नाम खुला पत्र

http://iamfauziya.blogspot.com/2010/05/blog-post.html

Gourav Agrawal ने कहा…

isi se milte julte vishay par meri nayee tippani yahaan dekhen


http://iamfauziya.blogspot.com/2010/05/blog-post.html?showComment=1273237144334#c9032289611652086311

aur please ye bhee bataayen ki aap is bare me kya sochtee hain

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आज अगर नारी .. सच में नारी बन जाए और अपनी शक्ति पहचान ले तो कोई उसका बॉल बांका नही कर सकता ... बहुत ही उद्वेलित करती रचना है ...

Gourav Agrawal ने कहा…

this is the only blog so far i found best in solution providing process for women world

please also read my comment there


http://feminist-poems-articles.blogspot.com/

हास्यफुहार ने कहा…

अच्छी रचना।
अच्छी बहस।

Rajiv ने कहा…

वंदना जी,
आपकी कविता बेहद संवेदनशील विषय पर केन्द्रित है .इसपर कोई भी और किसी भी प्रकार की टिप्पणी एक दृष्टिकोण मात्र ही होगा. यह एक ऐसा विषय है जिसके बारे में कुछ भी कहना मुश्किल सा है. भोग्या शब्द का प्रयोग सही है या गलत मैं इसपर न जाते हुए,सिर्फ इतना ही कहूँगा की स्त्री माता,बहन और अन्य रूपों में हमारे घरों में मान पाती है जो एक सुखद पक्ष है .आगे तो बस इतना ही कहना चाहूँगा :
"सोच में बदलाव
तेरी जिम्मेवारी है.
आज भी अगर
ऐसा नहीं हुआ तो
नहीं लिख पाओगी
जीवन की नई कहानी,
नहीं सूखेगा कभी
तेरे आँखों का पानी"

बेनामी ने कहा…

PEHLEE BAAR BLOGS PER AAYA HOO. AUR MR.LIMTY KHARE KA LIKHA PADHA. POOCHANA CHAAHTA HOO LIMTY JI SE KI AAJ KEE NAREE KA JO SWAROOP SAAMNE AA RAHA HAI USME AAPKA AUR AAPKE KUCH KHAS SAATHIYO KA KITNA HAATH AUR SAHYOG HAI ? KYA AAP APNE PICHALE KUCH SAMAY KE KARMO KO BHOOL GAYE HO ? AAPNE LIKHA BHEE KHOOB HAI -- NAAREE TUM NAAREE KAB BAN PAAOGEE -- SAHEE HAI JANAAB TUM AUR TUMHARE JAISE LOG NAREE BAN NE DENGE TAB NA.