पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2011

सबका अपना दृष्टिकोण

क्या अच्छा क्या बुरा
सबका अपना दृष्टिकोण
किसी के लिए जो अच्छा
वो दूजे के लिए बुरा
फिर कैसे अच्छे बुरे की
परिभाषा बांचे हम

शायद होता तो सब
अच्छा ही है दुनिया में
सिर्फ दृष्टिकोण के फर्क से
इन्सान ही बुराई ढूँढ लेता है
और अपने मन मुताबिक
अपने पैमाने बना लेता है
और नयी परिभाषा गढ़ लेता है

फिर कैसे अच्छे बुरे को बांचे हम
कैसे किसी को कम आंके हम
क्यों न अपनी सोच बदलें हम
हर बात मे अच्छा देखें हम
नज़र बदलते ही नज़ारा बदल जायेगा
जो बुरा नज़र आता था अच्छा नज़र आयेगा
फिर जीवन सबका संवर जायेगा
एक स्वर्ग धरती पर भी उतर आयेगा

37 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" ने कहा…

हर बात मे अच्छा देखें हम
नज़र बदलते ही नज़ारा बदल जायेगा
जो बुरा नज़र आता था अच्छा नज़र आयेगा
फिर जीवन सबका संवर जायेगा
एक स्वर्ग धरती पर भी उतर आयेगा
--
बहुत ही बढ़िया सन्देश दिया है आपने आज की रचना में।
काश् यह सम्भव हो!
मगर प्रयास तो करते ही रहना चाहिए!

Atul Shrivastava ने कहा…

सही लिखा है आपने। दुनिया में कोई भी बुरा नहीं। हर सिक्‍के के दो पहलू होते हैं। कहा भी गया है, जो हुआ अच्‍छे के लिए हुआ, जो हो रहा है वह भी अच्‍छे के लिए हो रहा है और जो होगा वह भी अच्‍छे के लिए ही होगा। यह भी कहा गया है, मन का हो तो अच्‍छा, मन का न हो तो और भी अच्‍छा।

ehsas ने कहा…

शायद होता तो सब
अच्छा ही है दुनिया में
सिर्फ दिृष्टिकोण के फर्क से
इन्सान ही बुराई ढूॅढ लेता है
और अपने मन मुताबिक
अपने पैमाने बना लेता है
और नयी परिभाषा गढ़ लेता है।

बिल्कुल सही कह रही है आप। इंसान की सोच ही अच्छी और बुरी होती है।

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ ने कहा…

बिलकुल सही कहा।

मुझे तो लगता अच्‍छा और बुरा कुछ भी नहीं होता, सिर्फ उसे देखने का नजरिया होता है।

---------
ब्‍लॉगवाणी: एक नई शुरूआत।

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

दृष्टिकोण पर आपका नजरिया अच्छा लगा... सही और गलत के पहचान के प्रति सापेक्ष और निरपेक्ष भाव को प्रकट करती कविता बढ़िया है.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

apna drishtikon aur apni muhar

ajit gupta ने कहा…

सभी के अपने दृष्टिकोण हैं।

दीप्ति शर्मा ने कहा…

drastikon se hi insan
sahi or galat ka pata lagata hai
bahut sahi
...

रेखा श्रीवास्तव ने कहा…

ये तो है हमें हर चीज उसी रूप में दिखती है जैसे हम देखते हैं - 'जाकी रही भावना जैसी प्रभु मूरत देखी तिन तैसी' सकारात्मक सोच और नकारात्मक सोच इसी के लिए बनी हुई है. दुनियाँ में संघर्ष का कारण यही है. हम अपनी सोच बदल लें तो ये दुनियाँ में सिर्फ प्रेम और सद्भाव ही नजर आएगा.

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " ने कहा…

'नज़र बदलते ही नज़ारा बदल जायेगा
जो बुरा नज़र आता था अच्छा नज़र आयेगा '
बिलकुल सच कहा वंदना जी ! बस अपनी निगाह का चश्मा उतारने की जरूरत है |

सुरेन्द्र "मुल्हिद" ने कहा…

khoobsurat rachna....
baanche ka kya matlab hota hai?

rashmi ravija ने कहा…

क्यों न अपनी सोच बदलें हम
हर बात मे अच्छा देखें हम
नज़र बदलते ही नज़ारा बदल जायेगा
जो बुरा नज़र आता था अच्छा नज़र आयेगा

पते की बात कही है....सुन्दर अभिव्यक्ति

इमरान अंसारी ने कहा…

वंदना जी,

इस पोस्ट के लिए आपको मेरा सलाम......बहुत ही सुन्दरता से आपने इतने सरल शब्दों में इतनी बढ़िया बाते बतायीं......बहुत सुन्दर|

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (12.02.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.uchcharan.com/
चर्चाकार:Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)

Rakesh Kumar ने कहा…

'Harbaat me achcha dekhen hum,Najar
badalte hi najara badal jayega'
Ab najar badalene ke liye to man ki gharahi me utarana hi padega.
Achcha to har man me hai,bus khoj karni padegi.Kaha bhi gaya hai:-
"jin khoja tin paaia,ghere pani paith"
Vandanaji aap badhai ki patra hai,jo man ki gharaion me utar kar
moti chun chun la rahi hai.Kaas!
hum sub bhi utar paye man ki gahraio me achcha dundhne ke liye.

Pratik Maheshwari ने कहा…

सही बात है.. सब नज़र-नज़र का खेल है..

संतोष कुमार ने कहा…

शायद होता तो सब
अच्छा ही है दुनिया में
सिर्फ दृष्टिकोण के फर्क से
इन्सान ही बुराई ढूँढ लेता है

बिलकुल सच कहा है आपने सिर्फ इंसान के नजरिये की बात होती है ! बहुत ही अच्छा सन्देश दिया है इस कविता के माध्यम से !

बहुत आभार !!

यशवन्त माथुर ने कहा…

सही कहा आपने जो किसी की नज़र में कोई अच्छी बात किसी के लिए बुरी भी हो सकती है और किसी की बुरी बात किसी को अच्छी भी लग सकती है.

सब अपना अपना सोचने का तरीका है/दृष्टिकोण है.

सादर

रवीन्द्र प्रभात ने कहा…

बढ़िया सन्देश दिया है आपने ,काश ऐसा हो पाता !

संजय भास्कर ने कहा…

आपका नजरिया अच्छा लगा...वंदना जी

ZEAL ने कहा…

बहुत ही सार्थक सन्देश देती , एक बेहतरीन रचना ।

सुशील बाकलीवाल ने कहा…

सही सोच है.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

नज़र नज़र का फेर है।

रवि कान्त शर्मा ने कहा…

बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोई।
जो दिल खोजा आपना, मुझसा बुरा न कोई॥

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर संदेश दिया आप ने इस रचना के माध्यम से, लेकिन ऎसा होता नही, धन्यवाद

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सच में वंदना जी नज़रिया बहुत मायने रखता है..... बहुत सहजता से गूढ़ बात कही आपने.....

Tarkeshwar Giri ने कहा…

Sundar Ati sundar

Mithilesh dubey ने कहा…

काश कि हम अपनी सोच बदल पाते, मेरा तो मानना है कि सब कुछ सोच पर ही निर्भर करता है ।

Tarkeshwar Giri ने कहा…

Bahut badhiya

anupama's sukrity ! ने कहा…

सही सन्देश देती हुई रचना -
बहुत अच्छी लगी

Dr Varsha Singh ने कहा…

सुन्दर और भावपूर्ण कविता । बधाई।

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

नज़र बदलते ही नज़ारा बदल जायेगा
जो बुरा नज़र आता था अच्छा नज़र आयेगा
फिर जीवन सबका संवर जायेगा
एक स्वर्ग धरती पर भी उतर आयेगा.....

एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर...

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सही है की सबके अपने अपने दृष्टिकोण हैं ...किसी के लिए कोई अच्छा तो दूसरे के लिए बुरा हो सकता है ..सटीक भावाभिव्यक्ति

विजय प्रताप सिंह राजपूत (निकू ) ने कहा…

बहुत ही बढ़िया ..........
बिलकुल सही कहा।

रजनीश तिवारी ने कहा…

हमारे अपने नजरिये पर बहुत ही सार्थक और अच्छी टिप्पणी है आपकी रचना । वैसे मुझे लगता है जैसे कुछ बुरा नहीं वैसे ही कुछ अच्छा भी नहीं । पर आपने सच ही कहा है , समझना ही है तो हम अच्छा समझें । इससे ज़िंदगी आसान होगी । बहुत अच्छी रचना । धन्यवाद एवं शुभकामनाएँ ।

वाणी गीत ने कहा…

सबका अपना नजरिया है ...एक का सच दूसरे के लिए झूठ हो सकता है ...इसलिए दूसरे के नजरिये को जानने की कोशिश भी की जानी चाहिए ...
सार्थक संदेशपरक रचना !

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" ने कहा…

sahi kaha.....drishtikon hi hai jo difference create karta hai aur alag pahchan dilata hai.........