पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शनिवार, 7 जून 2008

दर्द

मैंने दर्द को भी आहें भरते देखा है
हर गम को भी मुस्कुराते देखा है
हर सुबह में एक उदासी देखी है
हर शाम में एक खुशी भी देखी है
हर चुभते कांटे में एक दर्द को पलते देखा है
हर खामोश nigaah में एक आंसू को जलते देखा है
हर खामोश दीवार में kisi राज़ को दफ़न देखा है
हर मासूम चेहरे में एक खामोश मुहब्बत देखी है
पर हर मुहब्बत को परवान पे न चढ़ते देखा है
इस बेदर्द duniya को हर आह पर हँसते देखा है
हर ज़ख्म को यहाँ sirf नासूर बनते देखा है
मैंने दर्द को भी आहें भरते देखा है

8 टिप्‍पणियां:

सागर नाहर ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
सागर नाहर ने कहा…

हमने भी बहुत कुछ देखा है पर आपकी तरह कविता में व्यक्‍त करना नहीं आता.. आपने बहुत सुंदर तरीके से अपने भावों को प्रकट किया।
वंदना जी
हिन्दी चिट्ठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है, आप हिन्दी में बढ़िया लिखें और खूब लिखें यही उम्मीद है।

एक अनुरोध है कृपया यह वर्ड वेरिफिकेशन हटा दें,तो बढ़िया होगा यह टिप्पणी करते समय बड़ा परेशान करता है।

॥दस्तक॥
तकनीकी दस्तक
गीतों की महफिल

Pramod Kumar Kush ''tanha" ने कहा…

हर सुबह में एक उदासी देखी है
हर शाम में एक खुशी भी देखी है

Sunder kavita ke liye shubhkamnayein.Yuun hi likhtay rahein...

Amit K. Sagar ने कहा…

तुम जो ज़ख्मो को सीने से लगाए रखने का हुनर जाने हो
दिल ने ज़ख्मे-शाद में तुम नाशाद खुदा माने हो!!!
---
बहुत अच्छी रचना. लिखते रहिये.
शुभकामनायें.
---
उल्टा तीर

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

दर्द जब हद से गुजर जाता है तो गम भी मुस्कराने लगते हैं।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

दर्द भी दर्द महसूस करता है ..गज़ब ..

anupama's sukrity ! ने कहा…

हर ज़ख्म को यहाँ sirf नासूर बनते देखा है
मैंने दर्द को भी आहें भरते देखा है

वंदना जी नमस्कार .
आपकी कविता बहुत सुंदर है |गहन वेदना से भरी सुंदर अनुभूति है |मैंने नयी-पुरानी हलचल पर उसे लिया है|कृपया आयें और अपने शुभ विचार दें |
http://nayi-purani-halchal.blogspot.com/
anupama tripathi.

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा है आपने.

सादर