पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

रविवार, 8 जून 2008

दर्द -ऐ - दिल

दिल के टूटने की आवाज़ वो सुनकर भी नही सुनता ,
सब कुछ समझ कर भी वो कुछ भी नही समझता,
किसी के दिल पर क्या बीती है ----वो जानता है ,
इतना भी नासमझ नही ------फिर क्यों वापस बुलाता नही ,
दर्द जब हद से बढ़ जाएगा वो तब भी न वापस आएगा ,
जब हम न रहेंगे -------यह जानकर भी ,
वो हमको न वापस बुलाएगा।

7 टिप्‍पणियां:

mahendra mishra ने कहा…

jakhm apne kured diye hai . bahut badhiya .dhanyawaad.

Neo ने कहा…

yahi to risto ki ahiymat pata chalti hai...her tarf yahi hai..but chah kar bhi koi age nhi badta....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

वन्दना जी।
यह आपका कोरा बहम है।
कोई किसी को नही बुलाता है।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

कल 30/08/2011 को आपके दिल की बात नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

ana ने कहा…

awesome

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

ऐसा ही होता है ...

Minakshi Pant ने कहा…

दर्द को परिभाषित करती खूबसूरत रचना |
बहुत सुंदर रचना दोस्त :)