पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 18 फ़रवरी 2009

पिंजरे का पंछी

पिंजरे का पंछी
उडान चाहे जितनी भर ले
मगर लौट कर वापस
जरूर आता है
ये पंछी न जाने
कहाँ कहाँ भटकता है
हर ओर सहारा
ढूंढता है
मगर हर तरफ़
निराशा ही निराशा है
हर ओर
तबाही ही तबाही है
कहीं कोई नीड़ नही ऐसा
जहाँ एक और
घोंसला बनाया जाए
थक कर , हार कर
टूट कर गिरने से पहले
फिर उसी
पिंजरे की ओर भागता है
उसे पिंजरे का मोल
अब समझ आता है
जहाँ उसे वो सब मिला
जिसकी चाह में उसने
उड़ान भरी
पिंजरे को तोड़कर
भागना चाहा
मगर इस पिंजरे में
उसे जो सुकून मिला
वो तो सारी कायनात
में न मिला
जानते हो.................
ये पिंजरा कौन सा है ............
ये है प्रेम का पिंजरा
ये है समर्पण का पिंजरा
भावनाओं का पिंजरा
अपने अस्तित्व का पिंजरा
त्याग का पिंजरा
अहसासों का पिंजरा
जहाँ ये सब मिलकर
इस पिंजरे को
नया रूप देते हैं
इसे रहने के
काबिल बनाते हैं
क्यूंकि
ये पिंजरा अनमोल है

7 टिप्‍पणियां:

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बहुत सुंदर शब्द और अद्भुत विचार...उत्तम रचना...

नीरज

परमजीत बाली ने कहा…

वंदना जी,बहुत सुन्दर भाव हैं।सही बात है यदि प्रेम सच्चा हो तो प्रेम का बंधन अटूट होता है।बहुत सुन्दर रचना है।बधाई स्वीकारें।

रंजना [रंजू भाटिया] ने कहा…

जानते हो.................
ये पिंजरा कौन सा है ............
ये है प्रेम का पिंजरा
ये है समर्पण का पिंजरा
भावनाओं का पिंजरा
अपने अस्तित्व का पिंजरा
त्याग का पिंजरा
अहसासों का पिंजरा
जहाँ ये सब मिलकर
इस पिंजरे को
नया रूप देते हैं

बहुत सुंदर लगी यह पंक्तियाँ

सुशील कुमार छौक्कर ने कहा…

पहले तो पिंजरे का पंछी, मैं कुछ और समझ रहा था पर जब आखिर में आया तो ये दूसरा ही पंछी निकला। और मीठा सा अहसास जगा गया।
ये है प्रेम का पिंजरा
ये है समर्पण का पिंजरा
भावनाओं का पिंजरा
अपने अस्तित्व का पिंजरा
त्याग का पिंजरा
अहसासों का पिंजरा
जहाँ ये सब मिलकर
इस पिंजरे को
नया रूप देते हैं
इसे रहने के
काबिल बनाते हैं
क्यूंकि
ये पिंजरा अनमोल है

सच बहुत उम्दा।

शोभा ने कहा…

बहुत सुन्दर और भावभीनी कविता।

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत सुंदर भावों के साथ अच्‍छी रचना.....

M VERMA ने कहा…

भावों की प्रगाढता ही तो आपकी कविता है
सुन्दर रचना