पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

शुक्रवार, 9 जुलाई 2010

मैं कुछ पल का ब्लॉगर हूँ

मैं कुछ पल का ब्लॉगर हूँ
कुछ पल की मेरी पोस्टें हैं 
कुछ पल की मेरी हस्ती है
कुछ पल की मेरी ब्लॉगिंग है 
मैं कुछ पल ...........................

मुझसे पहले कितने ब्लॉगर
आये और आकर चले गए ,चले गए 
कुछ झंडे गाड़कर चले गए 
कुछ ठोकर खाकर चले गए,चले गए
वो उस पल की ब्लॉगिंग का हिस्सा थे 
मैं इस पल की ब्लॉगिंग का हिस्सा हूँ
कल तुमसे जुदा हो जाऊँगा 
जो आज तुम्हारा हिस्सा हूँ
मैं कुछ  पल  .........................................

कल और आयेंगे ब्लॉगिंग की
नयी ऊँचाइयाँ छूने वाले 
हमसे बेहतर कहने वाले
तुमसे बेहतर पढने वाले
कल कोई किसी को याद करे
क्यूँ कोई किसी को याद करे 
मसरूफ ज़माना ब्लॉगिंग के लिए
क्यूँ वक़्त अपना बरबाद करे 
मैं कुछ पल ........................

28 टिप्‍पणियां:

इटिप्स ब्लाग टीम ने कहा…

आपकी इस पोस्ट के लिये आपको सलाम करता हूँ ।

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

:):):) ...बढ़िया पैरोडी बनायीं है...यथार्थ को कहती हुई..

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

पैरोडी बहुत बढ़िया रही!

DR. PAWAN K MISHRA ने कहा…

गंगा मैया में जब तक के पानी रहे
आपके ब्लॉग तब तक रवानी रहे

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

वाह ! वाह ! क्या बात है !
ये गाना किसपे फिल्माया जायेगा ... ? :)

रश्मि प्रभा... ने कहा…

hahaha mast

rashmi ravija ने कहा…

हाहाहा बहुत ही मजेदार...सच है
मसरूफ ज़माना ब्लॉगिंग के लिए
क्यूँ वक़्त अपना बरबाद करे

shikha varshney ने कहा…

hee hee hee ...मस्त है
कभी कभी मेरे दिल में ख्याल आता है .
कि जैसे ब्लोगिंग को बनाया गया है मेरे लिए ...हा हा ह आहा हा .

राजेश उत्‍साही ने कहा…

वंदना जी मजा आ गया। सच कहूं तो बहुत सुकून मिला। क्‍योंकि पिछले दो तीन दिन से ब्‍लागिंग के इस दीवाने को बहुत पत्‍थ्‍ार और गालियां मिल रहीं थीं,ब्‍लागिंग की एक गली में। दीवाने को पता नहीं था कि वहां दीवाने से नफरत करने वाले रहते हैं। खैर आ गया लहुलुहान होकर। अब आपकी यह पैरोडी पढ़कर तो लगा कि आइना ही देख लिया। पर दीवाना ब्‍लागर हूं तो कुछ कहे बिना मानूंगा नहीं-
तो सुनिए-
ब्‍लागजलों का दिल जला के,क्‍या मिलेगा ब्‍लागरुबा,
ब्‍लाग ने तेरे ब्‍लाग से मेरे जाने क्‍या क्‍या कह दिया।

और भी बहुत पैरोडी आ रही हैं। पर औरों को भी मौका मिले अपनी प्रतिभा दिखाने का। इसलिए अभी एक ही बहुत है।

अजय कुमार झा ने कहा…

बढिया है ...पिक्चर का नाम है ...अभी अभी ...

Kusum Thakur ने कहा…

पैरोडी अच्छी लगी ......आभार !!

मनोज कुमार ने कहा…

मैं हरपल का टिप्पाकार हूं
हर पल हमें टिपियानी है
टिप्प्णी मेरी सस्ती है
इसको खूब लुटानी है।

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

:) ये भी खूब रही....

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर पैरोडी पर सिर्फ पैरोडी नहीं वरन ब्लागिंग दर्शन भी है ये

Asha ने कहा…

वन्दना जी पैरोडी बहुत अच्छी लगी |
आशा

Sadhana Vaid ने कहा…

आपका यह अंदाज़ भी भाया !

अजय कुमार ने कहा…

ब्लाग जगत के लिये बहुत अच्छी पैरोडी ।

दीपक 'मशाल' ने कहा…

वाह क्या पैरोडी है.. दिल खुश हो गया.. ये ब्लॉग्गिंग का सिलसिला है.. :)

अविनाश वाचस्पति ने कहा…

वंदना जी बहुत नाइंसाफी है
बिना टिप्‍पणियों की महिमा का जिक्र किए
ब्‍लॉगर गीत/पैरोडी/गाना कैसे पूरा हो गया
टिप्‍पणी का ब्‍लॉग जगत में अहम रोल है
बिना टिप्‍पणी के काहे की ब्‍लॉगिंग।

जो सहमत न हों, वे अपनी पोस्‍टों के टिप्‍पणी बॉक्‍स को सदैव के निष्क्रिय करने की महान कृपा करें।

arun c roy ने कहा…

ब्लॉग्गिंग पर परोडी के बहाने आपने जीवन दर्शन दे दिया है .. मुझे तो गंभीर पेरोडी लग रही है !

शोभना चौरे ने कहा…

bdhiya perodi hai

राजकुमार सोनी ने कहा…

आपके कितने रंग देखने को मिल रहे हैं
कभी आप हंसाती है तो कभी रूलाती भी है

राजकुमार सोनी ने कहा…

अभी बोलता हूं यश चोपड़ा को
शायद उनकी नई फिल्म में यह गाना फिट हो जाए
मजेदार है.

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

हा.हा.हा.हा.हा.हा.हा.हा.हा.

अब एक परोडी ये भी...

तुम अगर साथ देने का वादा करो..
मैं यूँ ही मस्त नगमे सुनाता रहू..

sanu shukla ने कहा…

गजब की पैरोडी है ये...!!

निर्मला कपिला ने कहा…

सही बात्65 है शायद हम भी जाने वाले हैं। धन्यवाद।

संजीव शर्मा ने कहा…

बढ़िया है....लेकिन लिंग-भेद क्यों किया आपने मसलन आपको लिखना चाहिए था-"मैं कुछ पल की ब्लॉगर हूँ.."

Vijay Pratap Singh Rajput ने कहा…

वाह ! वाह ! क्या बात है !