पेज

मेरी अनुमति के बिना मेरे ब्लोग से कोई भी पोस्ट कहीं ना लगाई जाये और ना ही मेरे नाम और चित्र का प्रयोग किया जाये

my free copyright

MyFreeCopyright.com Registered & Protected

बुधवार, 24 दिसंबर 2008

ख़ुद को मिटाया था जब सोचा था किसी को पा लेंगे
मगर ख़ुद को मिटाकर भी उसको ना पा सकें
वो मेरा कभी हुआ ही नही मुझको भी अपना बनाया नही
इस कांच से नाज़ुक रिश्ते को उसने कभी अपनाया ही नही
फिर क्या हो उस कोशिश का जो मैं हमेशा करती रही
तुझको पाने की कोशिश में ख़ुद को भी भुलाती रही

12 टिप्‍पणियां:

अक्षय-मन ने कहा…

आह ! बहुत खूब
ख़ुद को मिटाया था जब सोचा था किसी को पा लेंगे
ये पंक्तियाँ ही बहुत कुछ कहे जाती हैं और पूरी रचना तो जिंदगी का अध्याय सी लगती है


अक्षय-मन

Shashwat Shekhar ने कहा…

सूनेपन को कागज पर उतार दिया है आपने|

मीर याद आ गए....

"गरचे कब देखते तो, पर देखो,
आरजू है की तुम इधर देखो|

इश्क क्या क्या हमें दिखाता है,
आह तुम भी तो एक नजर देखो|

पहुचे हैं हम करीब मरने के,
यानी जाते हैं दूर अगर देखो|

"अर्श" ने कहा…

बहोत ही बढ़िया लिखा है आपने ढेरो बधाई स्वीकारें...


अर्श

"VISHAL" ने कहा…

"ZAKHM" gahre hai, jyada kuredna theek nahi hai, shabdo ka chunao achchha ban pada hai.

-------------------------"VISHAL"

Renu Sharma ने कहा…

vandana ji , riste hamesha risne ke liye hi hote hain isliye afsos nahi ho chahiye .....
bahut achchha likha hai .
mere blog ko itni bareeki se dekhne ke liye shukriya .
kuchh likhne se astitv bodh ho jata hai .or jab koi kuchh tareef karde tab or likhne ki ichchha ho jati hai .
shukriya .

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

bahut sundar kavita , aakhri line तुझको पाने की कोशिश में ख़ुद को भी भुलाती रही bahut umda ban padi hai ...

bahut si badhai ...

vijay
pls visit my blog :
http://poemsofvijay.blogspot.com/

Renu Sharma ने कहा…

shukriya vandana ji ...

bahadur patel ने कहा…

vandana ji bahut badhiya hai.badhai.

Pyaasa Sajal ने कहा…

Mam,
imaandaari se kahoon to sudhaar ki gunjaish hai

ek aur baat..aapke profile mein likha hai ki aapko padhne ka "shok" hai,zara wo thik kar le aur is shauk ko yun hi badne de...meri wishes :)

Dev ने कहा…

First of all Wish u Very Happy New Year...

Tumako pane ki koshish me khud ko bhulati rahi...

Bahut sundar kavita ....
Mindblowing....great work..

Regards..

Shubhali ने कहा…

Vandana ji .. aap bahut achcha likhte ho....maine aapke saare blogs padhe ..

sandhyagupta ने कहा…

Nav varsh ki hardik shubkamnayen.